Return to Video

सहानुभूति में एक कट्टरपंथी प्रयोग

  • 0:00 - 0:03
    मेरे छात्र अक्सर मुझसे पूछते हैं,
  • 0:03 - 0:05
    "क्या है समाजशास्त्र?"
  • 0:05 - 0:07
    और मैं उन्हें बता ता ,"यह एक अध्ययन का
  • 0:07 - 0:09
    तरीका है जिसमें हम निरीक्षण करते हैं की
  • 0:09 - 0:12
    मनुष्य जो चीज़ें नहीं देखते वे कैसे उन्हें प्रभावित करती हैं
  • 0:12 - 0:16
    और वे पूछते हैं, "मैं एक समाजशास्त्री कैसे बन सकता हूँ?
  • 0:16 - 0:18
    मैं उन अदृश्य शक्ति ओ को समझ सकता हूँ? "
  • 0:18 - 0:20
    और मैं कहता हूँ,सहानुभूति
  • 0:20 - 0:22
    सहानुभूति के साथ शुरू करो.
  • 0:22 - 0:25
    यह सब सहानुभूति के साथ शुरू होता है
  • 0:25 - 0:27
    अपने आप को अपनी जगह से बाहर लो,
  • 0:27 - 0:29
    और अपने आप को किसी अन्य व्यक्ति की जगह में देखो.
  • 0:29 - 0:32
    यहाँ, मैं आपको एक उदाहरण देता हूँ.
  • 0:32 - 0:34
    मैं अपने जीवन की कल्पना करता हु
  • 0:34 - 0:36
    अगर एक सौ साल पहले
  • 0:36 - 0:38
    चीन दुनिया में सबसे शक्तिशाली राष्ट्र रहा होता
  • 0:38 - 0:40
    और वे कोय्लेकी तलाकश में
  • 0:40 - 0:42
    अमेरिका आये होते
  • 0:42 - 0:45
    और उन्हें मिलजाता ,और , वास्तव में,याहि मिलजाता
  • 0:45 - 0:48
    और बहोत जल्दी,वे ये कोयला शिपिंग करना सुरु करते है
  • 0:48 - 0:50
    टन बाय टन
  • 0:50 - 0:53
    रेल गाड़ी या और जहाज भर भर के
  • 0:53 - 0:57
    आपने देश चीन में और दुनी याके बाकी हिसोमे ले जाते
  • 0:57 - 1:00
    ओर वे इश वजहसे बहोत ही अमीर देश बनजाते
  • 1:00 - 1:02
    ओर उन्होंने बहोत ही सुंदार शहर बनाये
  • 1:02 - 1:06
    साब कोयले की ताकत पे खड़े हुए
  • 1:07 - 1:10
    और यहाँ अमेरिका में
  • 1:10 - 1:12
    हमने आर्थिक मंदी देखि , अछत देखि
  • 1:12 - 1:14
    ये देख रहा था मई
  • 1:14 - 1:17
    में लोगोको मामूली चीजो केलिये संघर्ष करते हुऐ देखरहा था
  • 1:17 - 1:20
    कुछ पता नहीं था क्या हो रहा है और क्या होने वाला है
  • 1:20 - 1:22
    और फिर मेने आपने आपको ये सवाल किया
  • 1:22 - 1:25
    मैं कहता , "क्या यह संभव है कि हम आपने ही देश अमेरिका में इतने ग़रीब कैसे हो सकते है,
  • 1:25 - 1:27
    जावब था कोयला ,जोकि बहोत ही कीमती था
  • 1:27 - 1:29
    जो बहोत सारा पैसा था
  • 1:29 - 1:31
    और मुझे एहसास हुआ,
  • 1:31 - 1:34
    क्यों के यहाँ पर चीनी ओने सम्बन्ध बना लिया था
  • 1:34 - 1:37
    याहा पार अमेरिका में छोटेसे वर्ग के साथ
  • 1:37 - 1:41
    जिन्हों ने खुद केलिए, हमरी सारा पैसा ओर धन हाडाप लिया था
  • 1:41 - 1:43
    और हम में से बाकी, हम में से अधिकांश,
  • 1:43 - 1:45
    मामूली चीजो केलिए संघर्ष कर रहे है.
  • 1:45 - 1:48
    और चीन ने हमें ये छोटासा अभिजात शासक वर्ग दिया था
  • 1:48 - 1:51
    और बहोत सा सैन्य हथियार एव अत्याधुनिक तकनीकिया दी
  • 1:51 - 1:54
    ये सुनिश्चित करने के लिए के मेरे जेसे लोग
  • 1:54 - 1:57
    उन लोगोके खिलाफ अपना मु न खोल पाए
  • 1:58 - 2:01
    क्या ये कही पर सुना हुआ लग रहा है ?
  • 2:01 - 2:03
    और उन्हों ने ये चालाकी की , अम्रिकियोको तालीम दी
  • 2:03 - 2:05
    क्यों के वो कोइले की रक्षा कर शके
  • 2:05 - 2:08
    और जहा देखा वाहा पार बश चीन के निशान दिखने लगे
  • 2:08 - 2:11
    और हर जगह वो हमें ये याद दिलाते रहते
  • 2:11 - 2:13
    और वहा चाइना में
  • 2:13 - 2:15
    वो लोग क्या कहते है चाइना में?
  • 2:15 - 2:18
    कुछ नहीं .. वो हमरे बारे में बात नहीं करते , वो कोइले के बारे में बात नहीं करते.
  • 2:18 - 2:20
    अगर आप उनसे पूछे
  • 2:20 - 2:22
    वे तो यही कहेंगे , अजी आप कोइले के बारेमे तो जानते ही है , हमें कितनी जरूरत है कोइले की .
  • 2:22 - 2:25
    ये तो सरासर हद हो गई , मेरा गोस्सा कम नहीं होने वाला.
  • 2:25 - 2:28
    और काप को ऐसा लगना भी नहीं चेही ऐ."
  • 2:28 - 2:31
    क्यों के ये बात पे मुझे बहोत ही अधिक ग़ुस्सा आता है
  • 2:31 - 2:33
    जेसे बहोत सारे आम आदमी यो कोभी आता है .
  • 2:33 - 2:36
    और हमने सामने लदत दी , और उशने बहोत ही गन्दा रूप धारण किया
  • 2:36 - 2:39
    और चीन ने उसका बहोत ही गन्दा जावाब दिया
  • 2:40 - 2:43
    और उष शे पहेलेकी हमें पता चले , उन्होंने टोपे भेजदी
  • 2:43 - 2:45
    और फिर सेना भेज दी
  • 2:45 - 2:47
    और भोत सरे लोग मर रहे है
  • 2:47 - 2:52
    और ये बहोत ही मुस्किल परिस्थिति है
  • 2:52 - 2:55
    क्या आप कल्पना कर सकते है के आपको केसा महेसुस होगा ?
  • 2:55 - 2:57
    अगर आप मेरी जागा होते तो !!
  • 2:57 - 3:00
    क्या आप ये इमारत से बहार जा पाते ??
  • 3:00 - 3:02
    और देखते की तोप खडी हुई है
  • 3:02 - 3:05
    या फिर सैनिको से भरी ट्रक !!
  • 3:05 - 3:07
    और जरा महसूस की जिए के आपको केसा लगेगा
  • 3:07 - 3:10
    क्यों की आपको पता हे के वो यहा पे क्यों है ? और आपको येभी पता है के वो यहा क्या कर राहे है .
  • 3:10 - 3:14
    और आपको बहोत गूस भी आता है और आपको डरा भी लगता है
  • 3:14 - 3:17
    अगर आप ये महसूस कर सकते है तो , वो सहानुभूति - ये सहानुभूति है
  • 3:17 - 3:20
    आपने अपनी जगा छोड़ी और मेरी नजार से देखा ,
  • 3:20 - 3:22
    आपको बस ये महेसुस करना होगा
  • 3:22 - 3:24
    ठीक है,तो ये थी शुरूवाद
  • 3:24 - 3:26
    सिर्फ शुरूवाद
  • 3:26 - 3:28
    अभी हम करेगे सही शुरूवाद
  • 3:28 - 3:30
    असली कट्टरपंथी प्रयोग.
  • 3:30 - 3:33
    तो में मेरे इश लेक्चर के भाग रूप , में आपको
  • 3:33 - 3:35
    अपने आपको
  • 3:35 - 3:38
    किशी साधारण अरब मुस्लिम के जगा रखो
  • 3:38 - 3:40
    जो की मध्यपूर्व में रहेता है
  • 3:40 - 3:43
    विशेष रूप से,इराक में
  • 3:44 - 3:46
    और इसलिए आपको मदद करने के लिए,
  • 3:46 - 3:50
    शायद आप बगदाद में इस मध्यम वर्ग के परिवार के एक सदस्य हो
  • 3:50 - 3:53
    और आप चाहते हैं, जो अपने बच्चों के लिए सबसे अच्छा है
  • 3:53 - 3:55
    आप अपने बच्चों केलिए एक बेहतर जीवन चाहते है
  • 3:55 - 3:57
    और आप समाचार देखते हो ,आप ध्यान देते है
  • 3:57 - 4:00
    आप अख़बार पढ़ते है , आप अपने दोस्तोके साथ काफ्फी शॉप जाते हो ,
  • 4:00 - 4:02
    और आप दुनिया भारके अख़बार पढ़ते हो .
  • 4:02 - 4:04
    और कभी कभी आप टीवी भी देखते हो ,
  • 4:04 - 4:06
    अमेरिका से सीएनएन भी देखते है
  • 4:06 - 4:08
    तो आपको ये पता है के अमरीकी लोग केसा सोचते है आपके बारे मई
  • 4:08 - 4:11
    मगर सही मई , आपतो अपने लिए सिर्फ एक अछि ज़िन्दगी चाहते है
  • 4:11 - 4:13
    आप यही तो चाहते हो
  • 4:13 - 4:15
    आप इराक में आरहे रहे इस अरब मुस्लिम हो .
  • 4:15 - 4:17
    आप अपने लिए अच्छी ज़िन्दगी चाहते हो
  • 4:17 - 4:19
    तो यहाँ , मैं आपकी मदद करता हु
  • 4:19 - 4:21
    मैं आपको सोचने मई मदद करता हु
  • 4:21 - 4:23
    जो शायद आप सोच रहे हो.
  • 4:23 - 4:26
    सबसे पहेले तो :अपने देश में ये आक्रमण
  • 4:26 - 4:28
    ये पिछले बिष साल , और उसके पहलेभी
  • 4:28 - 4:31
    क्या कारण है के कोईभी आपके देश में इतनी दिलचश्पी क्यों ले , और खास करके अम्रीका ही क्यों ?
  • 4:31 - 4:33
    तेल(आयल)
  • 4:33 - 4:36
    ईश तेल(आयल) की वजह से;
  • 4:36 - 4:39
    आप ये जानते है ,साब लोग ते जानते है
  • 4:39 - 4:41
    क्यों के आपके साधनों केलिए किसी ओरके पास योजना थी
  • 4:41 - 4:44
    किसी ओरके पास योजना थी
  • 4:44 - 4:47
    मगर ये आपके साधन थे ,किसी ओरके नहीं !!
  • 4:47 - 4:50
    ये आपकी जमीं है , आपके साधन है
  • 4:50 - 4:52
    मगर ये किसी ओरकी योजना थी
  • 4:52 - 4:54
    और आप जान ते है उन्होंने ये योजना क्यों बनायीं?
  • 4:54 - 4:56
    आप जानते है उनकी नजार किश चीज़ पे थी !
  • 4:56 - 4:58
    उनकी पूरी आर्थिक व्यवस्था जोकि
  • 4:58 - 5:00
    पूरी तरहसे ईश तेल पे ताकि हुई थी
  • 5:00 - 5:02
    परदेशी तेल पे
  • 5:02 - 5:05
    तेल जोकि दुनियाके अलग देशो से आता ,जो उनका नहीं था
  • 5:05 - 5:07
    और क्या सोचते है आप इन लोगोके बारे मई
  • 5:07 - 5:09
    अमेरिकेन लोग , बहोत ही पैसे वाले है.
  • 5:09 - 5:11
    क्या बात करते हो , वो बड़े बंगलोमें रहते हे , बड़ी गाडी मे गुमते है
  • 5:11 - 5:13
    क्या बात करते हो , उनके पास बड़े बंगले है बड़ी गाडिया है
  • 5:13 - 5:15
    आप ये सोच तै है , मगर ये सच नहीं है
  • 5:15 - 5:18
    मगर ये मीडिया की छाप थी ,और आपको यही साच लागता
  • 5:18 - 5:20
    उनके पास बड़े सहर है
  • 5:20 - 5:23
    सहर जो आयल पे चल ते है
  • 5:24 - 5:26
    और यहाँ आप के घर में आप क्या देखते है
  • 5:26 - 5:28
    गरीबी, निराशा, संघर्ष
  • 5:28 - 5:31
    देखो , आप नहीं जी रहे हो एक आमिर देश में
  • 5:31 - 5:34
    यह इराक है
  • 5:35 - 5:37
    आपको यहाँ येही दिखाई देगा
  • 5:37 - 5:39
    आप लोगो को संगर्ष करते देखते है .
  • 5:39 - 5:41
    मेरा मतलब है, के ये आसान नहीं है;यहाँ बहुत ही गरीबी है
  • 5:41 - 5:43
    और आओ इसके बारे में कुछ महेसुस करते हो .
  • 5:43 - 5:45
    इन लोगो के पास आपके साधनों केलिए योजना है
  • 5:45 - 5:47
    और परिणाम रूप आप ये देखते है
  • 5:47 - 5:49
    अमेरिकेन इश बारे मई बात नहीं करते , मागर आप करते है
  • 5:49 - 5:51
    अमेरिकेन इश बारे मई बात नहीं करते , मागर आप करते है
  • 5:51 - 5:54
    वहाँ ये बात है, दुनिया का सैन्यीकरण
  • 5:54 - 5:56
    और यह ठीक अमेरिका में केंद्रित है.
  • 5:56 - 5:58
    और अमेरिका
  • 5:58 - 6:01
    दुनियुआ भरके आधे से ज्यादा सैन्य खर्च केलिए जिम्मेदार है
  • 6:01 - 6:03
    सैन्य खर्च केलिए जिम्मेदार है
  • 6:03 - 6:05
    और उनकी आबादीसिर्फ दुनियाकी चार ताका ही है
  • 6:05 - 6:08
    और आप ये महेसुस करते है ,आप हर रोज ये देखते है
  • 6:08 - 6:10
    ये आपकी जिंदगी का हिस्सा बन गई है
  • 6:10 - 6:12
    और आप इसके बारे मई आपके दोषतो से बात करते है
  • 6:12 - 6:15
    आप पढ़ते है इस बारे मे
  • 6:15 - 6:18
    और जब सद्दाम हुसैन सत्ता में था,
  • 6:18 - 6:21
    अमेरिकियों को उसके अपराधों के बारे में परवाह नहीं थी .
  • 6:21 - 6:23
    जाब वो कुर्दों और इरान जला रहा था
  • 6:23 - 6:25
    उन्हें इश बात की पर्व नहीं थी
  • 6:25 - 6:27
    जाब बात तेल की आई
  • 6:27 - 6:31
    केसे करके , अचानक ये बातो पे वे गौर करने लगे
  • 6:32 - 6:34
    और आप क्या देखते हो ,कुछ अलग ही
  • 6:34 - 6:36
    अमेरिका
  • 6:36 - 6:38
    दुनिउया का लोकशाही केंद्र
  • 6:38 - 6:40
    हाकीकतमे लगता नहीं के वो
  • 6:40 - 6:44
    दुनिया भरमे सभी लोकशाही देशो की मदद कर रहा हे
  • 6:44 - 6:47
    दुनिया में बहोत सरे देश हे ,तेल उत्पादन करते देश है
  • 6:47 - 6:50
    जोकि लोकशाही नहीं है , मगर फिरभी अमेरिका उनको मदद करता है
  • 6:50 - 6:52
    येतो बहोत ही अजीब है
  • 6:52 - 6:55
    ओह ये घुसपैठ ये दो युद्ध
  • 6:55 - 6:57
    ये १० सलोका प्रतिबन्ध
  • 6:57 - 7:01
    ये ८ स्लो का कब्ज़ा
  • 7:01 - 7:04
    ये आपके खिलाफ किया हुआ विद्रोह
  • 7:04 - 7:07
    हजारो लाखो
  • 7:07 - 7:12
    लोगोकी हत्या
  • 7:12 - 7:15
    साब इस तेल की वजहसे
  • 7:15 - 7:17
    आप ये सोचे बिना रहे नहीं साकते
  • 7:17 - 7:19
    आप इसके बारे मई बात करते है
  • 7:19 - 7:22
    ये हमेसा आपके दिमाग मई रहता है
  • 7:22 - 7:25
    आप सोचते है " ये के से मुमकिन है "
  • 7:25 - 7:28
    ये इंसान, इस के सारे आदमी
  • 7:28 - 7:30
    आपके दादा , आपके चाचा
  • 7:30 - 7:32
    आपके पिता ,आपका बेटा
  • 7:32 - 7:35
    आपके पडोशी ,आपके अध्यपाक , आपका छात्र
  • 7:35 - 7:38
    कभी जो जिंदगी खुशि और सुख से भारिथि
  • 7:38 - 7:41
    आचानक उसमे दुःख और आसू
  • 7:41 - 7:44
    आपके देश के सभी लोग
  • 7:44 - 7:47
    हिंसा,
  • 7:47 - 7:49
    खून, दर्द,
  • 7:49 - 7:51
    आतंक के शिकार थे
  • 7:51 - 7:54
    आपके देश में कोई ऐसा नहीं था जो इस से अछुता रहे गया हो
  • 7:54 - 7:56
    जो इस से अछुता रहे गया हो.
  • 7:56 - 7:58
    मागर कुछ था ,
  • 7:58 - 8:00
    इन लोगो के बारे मई कुछ था
  • 8:00 - 8:02
    ये अमेरिकेन जो यहाँ पर थे
  • 8:02 - 8:05
    कुछ अलग था इन लोगो के बारे में जो आप देख साक ते थे ,मागर वो नहीं
  • 8:05 - 8:08
    और आप क्या देखा साकते थे , व ईसाई थे
  • 8:08 - 8:10
    व ईसाई थे(च्रिस्तियन )
  • 8:10 - 8:13
    वे ईसाई भगवान् को पूजते थे ,उनके पास क्रोस थे , वो बाइबल लेके गूम ते थे
  • 8:13 - 8:15
    उनकी बाइबल पे एक सिक्का था
  • 8:15 - 8:18
    जिश पे लिखा था " अमरीकी सेना"
  • 8:19 - 8:22
    और उनके नेता,उनके लीडर
  • 8:22 - 8:24
    उसके पहेले की वो आपने बेटे बेटियों को भेजे
  • 8:24 - 8:26
    आपके देशमे लड़ने केलिए
  • 8:26 - 8:28
    आप जानते थे इस का कारन
  • 8:28 - 8:30
    उसके पहेले के वो उन्हें यहाँ भेजे
  • 8:30 - 8:32
    वो उनके ईसाई चर्च में जाते और उनके ईसाई भगवानको पूजते
  • 8:32 - 8:35
    और वो अपने लिए सुरक्षा और मार्गदर्शन मागते
  • 8:35 - 8:37
    क्यों ?
  • 8:37 - 8:41
    ये तो ज़ाहिर था के,जाब लड़ाई में लोग मारे गे ,
  • 8:41 - 8:43
    वो तो मुस्लिम और इराकी होगे
  • 8:43 - 8:45
    वो अमेरिकेन नहीं होगे
  • 8:45 - 8:48
    आप नहीं चाहते के अमेरिकेन मरे , आप अपनी टुकड़ी की खेरियात चाहते हो
  • 8:48 - 8:50
    और आप कुछ महेसुस करते हो इस बारे में --
  • 8:50 - 8:52
    ज़रूर करते हो .
  • 8:52 - 8:54
    और वो वहापे बहोत ही बढ़िया चीजे करते है .
  • 8:54 - 8:56
    और आप उसके बारे में पढ़ते है, सुनते है
  • 8:56 - 8:58
    वो वहा पार स्कूल बनाते है , लोगोकी मदद कर ते है, और यही तो वे करते है
  • 8:58 - 9:00
    वो बहोत ही अच्छा काम करते है , माग्र वो बुरा काम भी कारते है
  • 9:00 - 9:02
    और आप इस का भेद नहीं परख सकते
  • 9:02 - 9:06
    और ये आदमी , लियूतेनंत जेनरल विलियम बोय्की जे सा आदमी मिलता है आप को
  • 9:06 - 9:09
    में ये कहेना चाहता हु के, या हा एक आदमी है जो कहेता है आपका का भगवान् गालात है
  • 9:09 - 9:11
    आप का भगवान् गलात है , इसका भगवान् सही है
  • 9:11 - 9:14
    उश्के हिसाब से , मिद्दल ईस्ट के सारी मुसीबतो का हाल येहे ,
  • 9:14 - 9:16
    के सारे मुस्लीमो को इशाई बाना दो
  • 9:16 - 9:18
    तुम्हारे धर्मं को मिटा दो
  • 9:18 - 9:20
    और आप को पता है ! अमेरिकेन इस आदमीके बारे मई नहीं पढ़ते
  • 9:20 - 9:23
    वो इश के बारेमें कुछ नहीं जानते , मागर आप जानते हो .
  • 9:23 - 9:25
    आप ये बात फेलाते हो , आपने आसपास फेलाते हो
  • 9:25 - 9:28
    में कहेता हु ये बहोत ही गंभीर मामला है
  • 9:28 - 9:31
    इराक पर दुशरे हामलेमें ये मुख्या कमांडर था
  • 9:31 - 9:34
    तो आप ये सोचा ते हो के , " ओ भगवन , अगर ये आदमी ऐसा सोचता है
  • 9:34 - 9:36
    तो सारे सेंनिक ऐसा सोचते होगे ".
  • 9:36 - 9:38
    और ये शब्द ,
  • 9:38 - 9:40
    जोर्ज बुश ने इश लड़ाई को धर्म की लड़ाई बताई
  • 9:40 - 9:42
    यार, अमेरिकन , वे तो बस, जैसे ये ", धर्मयुद्ध.
  • 9:42 - 9:44
    जो भी हो. मुझे नहीं मालूम.
  • 9:44 - 9:46
    आप जानते हैं इसका क्या मतलब है .
  • 9:46 - 9:48
    यह मुसलमानों के खिलाफ एक पवित्र युद्ध है
  • 9:48 - 9:51
    देखो, आक्रमण, उनके वश में है, अपने संसाधन ले लो.
  • 9:51 - 9:53
    अगर वे नहीं मान ते तो , मार डालो उन्हें
  • 9:53 - 9:55
    सब इसी केलिये हीतो है
  • 9:55 - 9:58
    और आप सोचते हो , हे भगवान् ये ,ईसाई हमें मारने केलिए आरहे है .
  • 9:58 - 10:00
    ये तो बहोतही भयानक है
  • 10:00 - 10:03
    आप डरे हु ऐ है , सचमे डरे हुए है
  • 10:03 - 10:06
    और ये आदमी तेर्री जोंनस :
  • 10:06 - 10:08
    ये आदमी है जो की कुरान जलना चाहता है
  • 10:08 - 10:10
    और अमेरिकेन, " ओह , येतो एक सरफिरा आदमी है "
  • 10:10 - 10:12
    ये एक होटल मेनेजर रहे चूका है
  • 10:12 - 10:14
    उशके साथ उशकी चर्च के ३ दाजन लोग है
  • 10:14 - 10:16
    वो उसपे हस्ते है, मगर आप उसको मजाक में नहीं लेते
  • 10:16 - 10:18
    क्योंकि बाकी सब के संदर्भ में,
  • 10:18 - 10:20
    सारी कडिय बांध बेठ ती है
  • 10:20 - 10:22
    मेरा निश्चित रूपसे ये मतलब है , की अमेरिकेन उसे ऐसे ही समजते है
  • 10:22 - 10:24
    इश हिसाब से सारे मिडल इस्तके के लोग , नाकि सिर्र्फ तुम्हारे देश के लोग
  • 10:24 - 10:26
    इस का विद्रोह कर रहे है
  • 10:26 - 10:28
    "वो कुरान जलना चाहते है , हमारा धर्मं पुस्तक "
  • 10:28 - 10:30
    ये इसाई , कोन हैं ये इसाई?
  • 10:30 - 10:32
    वे बहोत ही बुरे है, और बहोत मतलबी भी
  • 10:32 - 10:34
    यही है उनकी पाहेचान है"
  • 10:34 - 10:36
    येही सोचते है आप एक आरब मुस्लिम हो ने के नाते ,
  • 10:36 - 10:38
    इराकी होने के नाते .
  • 10:38 - 10:40
    इस में दो मात नहीं के आप ऐसा सोचेगे .
  • 10:40 - 10:42
    और फिर आपका भाई
  • 10:42 - 10:44
    कहे गा " भाई ये देखो ये वेब साईट "
  • 10:44 - 10:46
    तुहे ये देखना चाही ये " बाइबल का अखाडा "
  • 10:46 - 10:48
    ये इसाई सारे पागल है.
  • 10:48 - 10:51
    ये उनके छोटे छोटे बच्चो को इशु के धर्म शेनिक बना रहे है
  • 10:51 - 10:53
    और ये उन छोटे बच्चोको लेजाते है , और उनसे येसाब करवाते है .
  • 10:53 - 10:55
    जब टाक वे उन्हें सिखाना दे " सर, येश, सर "
  • 10:55 - 10:58
    और ऐसि चीजे, के बंम केसे फेका जाता है, और हथियारों के देखभाल केसे करते है
  • 10:58 - 11:00
    और आप वेबसाइट देखे
  • 11:00 - 11:02
    वहा पार साफ़ लिखा है " अमरीकी सेना"
  • 11:02 - 11:05
    मेरा मतलब ये ,इसाई , ये पागल है , ये अक़पने छोटे छोटे बच्चो के साथ ऐसा केसे कर सकत है .
  • 11:05 - 11:07
    और आप ये वेब साईट देख रहे हो
  • 11:07 - 11:10
    और ज़ाहिर है , यहाँ अमरीका में इसाई , और कोई भी
  • 11:10 - 11:12
    यही कहे गा " ओह , ये तो एक मामुलिसा छोटासा चुर्च है जो कोई जानता भी नहीं ."
  • 11:12 - 11:14
    आप ये नहीं जानते
  • 11:14 - 11:17
    आपके लिए तो , सभी इसाई उसके जेसेही है .
  • 11:17 - 11:19
    ये स्ब जगा पर है , बाइबल का अखाडा.
  • 11:19 - 11:21
    और ये देखि ये :
  • 11:21 - 11:23
    वे उनके बचो को भी याही सिखाते है --
  • 11:23 - 11:25
    वे उनके बच्चो को वेसिही तालीम देते है जेसे के अमरीकी नौका दाल देता है
  • 11:25 - 11:27
    क्या ये दिलचश्प नहीं है ?
  • 11:27 - 11:29
    और ये आपको डाराता है , भयभीत करता है.
  • 11:29 - 11:31
    और इन लोगो को , आप देखते है .
  • 11:31 - 11:34
    आप देखे , में, सेम रिचर्ड , ये जानताहू के ये लोग कोन है
  • 11:34 - 11:36
    ये मेरे च्चात्र है , मेरे दोस्त है .
  • 11:36 - 11:38
    मेये जानताहु के आप क्या सोच रहे है " के आप ये नहीं जान ते "
  • 11:38 - 11:40
    जाब आप उनको देखते है ,
  • 11:40 - 11:43
    वे कुछ अलग है , वे कुछ अलग है .
  • 11:43 - 11:46
    आप केलि ये तो वे यही है .
  • 11:46 - 11:49
    हम यहाँ अम्रीका में उनको ऐसे नहीं देखते ,
  • 11:49 - 11:52
    मगार आप उन्हें ऐसे देखते हो .
  • 11:54 - 11:56
    तो यहाँ पर .
  • 11:56 - 11:58
    आप बिलकुल ही गलत सोच रहे हो .
  • 11:58 - 12:01
    आप साब को एकजेसा मानते है , ये तो गलत है
  • 12:01 - 12:03
    आप अमेरिकेन को आछी तराह नहीं जानते
  • 12:03 - 12:05
    ये इसाईयो की गुशपेठ नहीं है
  • 12:05 - 12:07
    हम वहापे सिर्फ आयल की वाज़ह्से नहीं है ,हम वहा और कई कारणों की वाज़ह्से है
  • 12:07 - 12:09
    आप ने गलत समजा है , आप ने समजने में चुक की है
  • 12:09 - 12:12
    और सच में , आप में से ज्यादा तर विद्रोह का साथ नहीं देते :
  • 12:12 - 12:14
    आप अम्रेरिकां की हत्या नहीं चाहते ;
  • 12:14 - 12:16
    आप आतंकवादकों सुप्पोर्ट नहीं करते .
  • 12:16 - 12:18
    बिलकुल आप नहीं कारते , बहोत कम लोग करते है
  • 12:18 - 12:21
    मगर आपमें से कुछ कक़रते है
  • 12:21 - 12:24
    और ये एक सम्भावना है .
  • 12:24 - 12:26
    ठीक है, अभी , यहाँपर हम ये करेंगे की .
  • 12:26 - 12:28
    आपनि जगह छोड़े,
  • 12:28 - 12:30
    के आप सही हो
  • 12:30 - 12:32
    और आप अपनी पहेली स्थिति में आके देखो
  • 12:32 - 12:34
    यहाँ कमरे में बेठे साभी लोग , ठीक है.
  • 12:34 - 12:36
    अब यहाँ कट्टरपंथी प्रयोग आता है.
  • 12:36 - 12:38
    तो हम सब वापस घर आ गये.
  • 12:38 - 12:40
    यह फ़ोटो: यह औरत,
  • 12:40 - 12:42
    यार, मैं उसे महसूस कर सकता हु
  • 12:42 - 12:44
    मैं उसे महसूस कर सकता हु
  • 12:44 - 12:46
    वो मेरी बहन है
  • 12:46 - 12:49
    मेरी बीवी , मेरी चचेरी बाहेन , मेरी पदोषण ,
  • 12:49 - 12:51
    वो मेरी कोईभी है
  • 12:51 - 12:53
    ये आदमी जो फोटो में खाडा है ,सब कोई जो फोटो में है .
  • 12:53 - 12:56
    यार , में इस फोटो को महेसुस कर सकताहू .
  • 12:56 - 12:58
    तो आब में जेसा कहेता हु आप वेसा करे
  • 12:58 - 13:01
    तो चलो , जो मेने पहेले चीन का उदाहरण दिया था वहा वापस चले
  • 13:02 - 13:04
    में चाहता हु आप वहा वापस जाये
  • 13:04 - 13:07
    तो ये सब कोयले की वाज़ह्से है ,तो इसी वजह से चानिस यहाँ पर अमरिकामे है
  • 13:07 - 13:09
    और में चाहता हु के इश ओउरत को आप एक चनिस ओउरत के रूप में देखे
  • 13:09 - 13:12
    एक चीनी झंडा प्राप्त करते हु ऐ
  • 13:12 - 13:15
    क्योकि उसका कोई चाहने वाला अमेरिका में मारा गया है
  • 13:15 - 13:17
    कोयले के विद्रोह मई
  • 13:17 - 13:19
    और सेनिक चनिस है ,
  • 13:19 - 13:21
    और सभी चीनी है
  • 13:21 - 13:24
    एक अमेरिकेन होनेके नाते आपको केसा महेसुस हो रहा है ?
  • 13:26 - 13:29
    इस द्रश्य के बारे में आप क्या सोच ते है ?
  • 13:31 - 13:33
    चलो, ये करके देखो , उसे वापस ले आओ
  • 13:33 - 13:35
    ये द्रश्य हे यहाँ पर ,
  • 13:35 - 13:37
    वो एक अमरीकी है , अमरीकी सेनिक ,
  • 13:37 - 13:39
    अमरीकी महिला जिसने अपना चाहने वाला खोया है
  • 13:39 - 13:42
    मिडल ईस्ट , इराक और अफगानिस्तान मई .
  • 13:42 - 13:44
    अब उसकी जगा आपने आपको रख के सोचे ,
  • 13:44 - 13:46
    उसकी जगा से सोचे
  • 13:46 - 13:49
    एक अरब मुस्लिम जो की इराक में रहेता है .
  • 13:50 - 13:53
    आप क्या महेसुस कर रहे है और सोच रहे है
  • 13:53 - 13:55
    इश तस्वीर के बारे मई ,
  • 13:55 - 13:58
    और इश महिला के बारे मई ?
  • 14:05 - 14:07
    ठीक है .
  • 14:07 - 14:09
    अब मेरी इस बात पे ध्यान दे ,
  • 14:09 - 14:11
    क्यों के यहाँ में बहोत ही बड़ा जोखम उठा रहा हु .
  • 14:11 - 14:14
    सो में आपको भी ये जोखम उठाने केलिये आमंत्रित करता हु .
  • 14:14 - 14:16
    यहाँ पर ये सज्जन हे , वो एक विद्रोहि है .
  • 14:16 - 14:18
    वे अमेरिकेन सेनिको के हाथ पकडे जाते है ,
  • 14:18 - 14:20
    अमरीकियों को मारने के प्रयास मई .
  • 14:20 - 14:23
    और सायद वे कामियाब भी हुए ,सायद वे कामियाब भी हुए .
  • 14:23 - 14:25
    अब आप एक अमेरिकेन सेनिक की जगह से सोची ये
  • 14:25 - 14:29
    जिन्होंने इन्हें पकड़ा है .
  • 14:29 - 14:31
    क्या आप गुस्सा महेसुस कर सकते है ?
  • 14:31 - 14:33
    क्या आप को ऐसा महेसुस होता है की इनको पकडके उनकी गर्दन मरोड़ दे
  • 14:33 - 14:35
    उनकी गर्दन मरोड़ दे ?
  • 14:35 - 14:37
    क्या आप वहा जा सकते है ?
  • 14:37 - 14:39
    ये इतना मुस्किल नहीं होना चाही ऐ .
  • 14:39 - 14:42
    आप जेसे की -- मार दलु इन्हें !
  • 14:44 - 14:48
    अब , अपने आप को इनकी जगा रख के देखे .
  • 14:50 - 14:52
    क्या वे खुखर हत्यारे है ?
  • 14:52 - 14:55
    और देश के रखेवाले है ?
  • 14:55 - 14:57
    कोन है ?
  • 14:58 - 15:01
    क्या आप उनका क्रोध महेसुस कर सकते है ,
  • 15:01 - 15:03
    उनका डर,
  • 15:03 - 15:05
    उनका आक्रोश ,
  • 15:05 - 15:07
    और उनके देश में जो हुआ ?
  • 15:07 - 15:09
    क्या आप कल्पना कर सकते है
  • 15:09 - 15:12
    इनमेसे एक इस सुबह
  • 15:12 - 15:15
    जुक के अपने बच्चे को गले लगा के
  • 15:15 - 15:19
    कहा होगा ,"मेरे प्यारे में देरसे वापस आऊंगा .
  • 15:19 - 15:22
    में तुम्हारी आज़ादी और जिन्दगी केलिए लड़ने जारहा हु .
  • 15:22 - 15:26
    में बहार जा रहा हु आपने,
  • 15:26 - 15:28
    और अपने देश के भविष्य केलिए
  • 15:28 - 15:30
    क्या आप ऐसा सोच सकते है
  • 15:30 - 15:33
    क्या आप ये कल्पना कर सकते है
  • 15:33 - 15:36
    क्या आप वहा जा सकते है
  • 15:37 - 15:40
    क्या आप वहा जा सकते है ?
  • 15:47 - 15:49
    देखि ये , ये हे सहानुभूति .
  • 15:49 - 15:52
    और ये समज्दारिभी है .
  • 15:52 - 15:54
    और सायद आप ये पूछे भी .
  • 15:54 - 15:57
    और सायद आप पूछे , आप इस किसम के काम क्यों करते हो ?
  • 15:57 - 15:59
    आप सारे उदहारण नो में से यही उदहारण क्यों लिया ?
  • 15:59 - 16:02
    और में कहुगा .. क्यों के ... क्यों के .
  • 16:02 - 16:04
    आपके इन लोगो से नफ़रत करने का अधिकार है .
  • 16:04 - 16:07
    आपको पूरी छुट है उनसे नफरत करनेकी
  • 16:07 - 16:09
    आप के हर एक अंग्से .
  • 16:09 - 16:11
    अगर में आप को लेजाऊ
  • 16:11 - 16:13
    उनकी जगह
  • 16:13 - 16:15
    और एक कदम भी चलने को कहू
  • 16:15 - 16:17
    एक छोटा सा कदम ,
  • 16:17 - 16:20
    ताब महेसुस करे वो समाजशास्त्रीय विश्लेषण.
  • 16:20 - 16:24
    जो की आप जिन्दगी के हर इक पहेलु में कर सकते है .
  • 16:24 - 16:26
    आप एक मिल चल सकते है
  • 16:26 - 16:28
    जब आपको ये समाज आये गा
  • 16:28 - 16:31
    के वो आदमी क्यों ४० माइल की गति से गाड़ी चला रहा है
  • 16:31 - 16:34
    इश छोटेसे रस्ते पे
  • 16:34 - 16:36
    और आप का नाबालिक बेटा ,
  • 16:36 - 16:38
    और आपका पडोशी जो आपको परेशां करता है
  • 16:38 - 16:40
    इतवार के दिन सुबह आवाज कर के .
  • 16:40 - 16:43
    कोई भी चीज हो , आप वो महेसुस कर सको गे .
  • 16:43 - 16:45
    और में आपने च्चात्रो को ये कहे ता हु
  • 16:45 - 16:49
    आप आपनी छोटी दुनियासे बहार देखे
  • 16:49 - 16:51
    आप किशी की छोटी सी
  • 16:51 - 16:53
    दुनिया में देखे
  • 16:53 - 16:57
    और फिरसे करिए फिरसे करिए फिरसे करिए .
  • 16:57 - 16:59
    और अचानक ये छोटी छोटी दुनिया ,
  • 16:59 - 17:01
    एक उलज़े हुऐसे जाल में बदल जाए गी .
  • 17:01 - 17:04
    और उन्हों ने बहोत ही बड़ी और अटपटी दुनिया बनाली
  • 17:04 - 17:06
    और अचनाक आपको पता भी नहीं चला
  • 17:06 - 17:09
    आप दुनिया को आलग नजरिये से देख रहे हो
  • 17:09 - 17:11
    सब कुछ बदल गया है.
  • 17:11 - 17:13
    आपके जीवन में सब कुछ बदल गया है
  • 17:13 - 17:16
    और स्चमई यही तो है वो .
  • 17:16 - 17:19
    दूसरे के जीवन में भाग ले
  • 17:19 - 17:21
    और उसे
  • 17:21 - 17:23
    दुश्रे लोगो को सुने
  • 17:23 - 17:26
    आपने आप को जागृत करे
  • 17:26 - 17:28
    में ये नहीं कहे रहा हु
  • 17:28 - 17:30
    के में आतंकवादकों सुप्पोर्ट कर रहा हु
  • 17:30 - 17:32
    लेकिन एक समाजविज्ञानी के रूप में,
  • 17:32 - 17:34
    मई जो कहे रहा हु
  • 17:34 - 17:37
    जो मई समाज रहा हु
  • 17:38 - 17:42
    और अब शायद - शायद - आप भी करते हैं
  • 17:42 - 17:44
    धन्यवाद
  • 17:44 - 17:46
    तालियाँ
Title:
सहानुभूति में एक कट्टरपंथी प्रयोग
Speaker:
Sam Richards
Description:

सैम रिचर्ड्स ,जो की एक समाजशास्त्री है , TEDxPSU में अमेरिकी दर्शको को विचार प्रक्रिया के माध्यमसे कदप्से कदम दोरते हुए एक असाधारण चुनोती रखते है : क्या वे समाज सकते है -- सहेमती नहीं -- मगर समाजना -- एक इराक विद्रोही को ?इश हाद ताक , के कोई उन्हें सच में समजे और उनसे सहानु भूति दर्शाए ?

more » « less
Video Language:
English
Team:
TED
Project:
TEDTalks
Duration:
17:47
Chirag Chauhan added a translation

Hindi subtitles

Revisions