Return to Video

IWOW - Part 3 - The Serpent and the Lotus

  • 0:03 - 0:08
    पश्चिमी सभ्‍यता और लिखित भाषा के प्रारंभ से पूर्व, विज्ञान एवं
  • 0:08 - 0:14
    आध्‍यात्मिकता दो अलग धाराएं नहीं थीं ।
  • 0:14 - 0:17
    महान प्राचीन परंपराओं की शिक्षाओं में ज्ञान तथा
  • 0:17 - 0:20
    निश्चिंतता के लिए बाहरी खोज परिवर्तन के
  • 0:20 - 0:22
    सर्पिल की नश्‍वर एवं अंतर्दर्शी समझ की
  • 0:22 - 0:27
    आंतरिक अनुभूति द्वारा संतुलित थी ।
  • 0:27 - 0:32
    जैसे ही वैज्ञानिक चिंतन अधिक प्रभावी हुआ और सूचना में अत्‍यधिक भरमार हुई,
  • 0:32 - 0:36
    वैसे ही हमारे ज्ञानतंत्र के अंदर विखंडन आरंभ हुआ ।
  • 0:36 - 0:38
    बढ़ती हुई विशेषज्ञता का यह अर्थ हुआ कि कम लोग अनुभूति
  • 0:38 - 0:41
    का विशाल चित्र एवं समग्र रूप में तंत्र की अंतदर्शी एवं
  • 0:41 - 0:45
    सौंदर्य चेतना को देखने के योग्‍य थे ।
  • 0:45 - 0:52
    किसी ने नहीं पूछा कि “क्‍या यह सब सोचना हमारे लिए अच्‍छा है ?“
  • 0:57 - 1:01
    प्राचीन ज्ञान हम लोगों के बीच में है । प्रत्यक्ष दृष्टि से ओझल।
  • 1:01 - 1:07
    परंतु हम अपने पूर्व विचारों से भरे हैं जिसके कारण इसे पहचान नहीं पा रहे हैं।
  • 1:07 - 1:10
    यह विस्‍मृत बुद्धिमत्‍ता ही आंतरिक एवं बाहरी के
  • 1:10 - 1:15
    बीच संतुलन बिठाने का मार्ग है ।
  • 1:15 - 1:15
    यिन एवं यांग ।
  • 1:15 - 1:22
    परिवर्तन के सर्पिल तथा हमारे अभ्‍यांतर में स्थिरता के बीच ।
  • 1:52 - 1:59
    ग्रीक दंतकथा में, अपोलो चिकित्‍सा के देव असलेपियस का पुत्र था।
  • 2:00 - 2:03
    चिकित्‍सा में उसकी बुद्धिमता एवं कुशलता का कोई सानी नहीं था और कहा जाता है कि उसने
  • 2:03 - 2:10
    जीवन एवं मृत्‍यु का रहस्‍य खोजा ।
  • 2:10 - 2:13
    प्राचीन ग्रीस में एसक्‍लेपियन के चिकित्‍सा मंदिरों
  • 2:13 - 2:16
    ने आदिम सर्पिल की शक्ति को मान्‍यता दी ।
  • 2:16 - 2:21
    जिसे एक्‍लेपियस की छड़ द्वारा प्रतीक के रूप में समझा जाता है,
  • 2:21 - 2:26
    औषध के पिता हिप्‍पोक्रेट्स ने,
  • 2:26 - 2:28
    जिसकी शपथ चिकित्‍सा पेशे की आज
  • 2:28 - 2:30
    भी आधार संहिता है, एसीपीयन मंदिर
  • 2:30 - 2:34
    में अपना प्रशिक्षण प्राप्‍त किया ।
  • 2:34 - 2:37
    आज भी हमारी विकासात्‍मक ऊर्जा का यह प्रतीक
  • 2:37 - 2:40
    अमरीकन चिकित्‍सा एसोसिएशन तथा विश्‍वव्‍यापी अन्‍य
  • 2:40 - 2:47
    चिकित्‍सा संगठनों के प्रतीक के रूप में है ।
  • 2:49 - 2:52
    इजिप्‍ट के प्रतिमा विज्ञान में, सर्प एवं पक्षी मानवीय प्रकृति
  • 2:52 - 2:59
    की गुणवत्‍ता तथा ध्रुवत्‍व का प्रतिनिधित्‍व करता है ।
  • 3:02 - 3:07
    सर्प की अधोगामी दिशा, विश्‍व की विकासात्‍मक
  • 3:07 - 3:14
    ऊर्जा का प्रत्यक्ष सर्पिल रूप है ।
  • 3:14 - 3:18
    पक्षी उर्ध्‍वगामी दिशा में है - सूर्य या जागृत एकमात्र के
  • 3:18 - 3:22
    केन्द्रित संचेतनता की ओर उन्‍मुख ऊर्ध्‍वगामी बहाव;
  • 3:22 - 3:29
    आकाश की शून्‍यता ।
  • 3:34 - 3:37
    फारौस तथा ईश्‍वर जागृत ऊर्जा से चित्रित किए
  • 3:37 - 3:40
    जाते हैं जहां कुंडलिनी सांप मेरुदंड की ओर जाती
  • 3:40 - 3:47
    है और नेत्रों के बीच `अज्ञान चक्र` भेदती है ।
  • 3:49 - 3:53
    इसे होरस के नेत्र के रूप में उल्लिखित किया जाता है ।
  • 3:53 - 3:58
    हिन्‍दू परंपरा में बिंदी तीसरे नेत्र का भी प्रतीक है;
  • 3:58 - 4:05
    आत्‍मा से दिव्‍य संबंध ।
  • 4:08 - 4:11
    राजा टुटनखमुन का मुखावरण पुरातन उदाहरण है जिससे सर्प एवं पक्षी,
  • 4:11 - 4:18
    दोनों के मूलभाव का पता चलता है ।
  • 4:19 - 4:25
    मयन और अजटेक परंपराएं सर्प एवं पक्षी के मूलभाव को एक ईश्‍वर में समन्वित करती हैं ।
  • 4:25 - 4:27
    क्‍यूटजलकोट्ल या कुकुल्‍कन ।
  • 4:27 - 4:31
    पर से सुशोभित दैवी सर्प जागृत विकासात्‍मक
  • 4:31 - 4:35
    सचेतनता या जागृत कुंडलिनी का प्रतीक है ।
  • 4:35 - 4:38
    व्‍यक्ति का स्‍वयं में क्‍यूटजलकोट्ल को जागृत कर लेना,
  • 4:38 - 4:42
    दिव्‍यता का जीवंत प्रकटीकरण है ।
  • 4:42 - 4:46
    कहा जाता है कि क्‍यूटजलकोट्ल या सर्पिल ऊर्जा,
  • 4:46 - 4:53
    काल की समाप्ति पर वापस लौटेगी ।
  • 5:01 - 5:06
    सर्प तथा पक्षी के प्रतीक ईसाई धर्म में भी देखे जा सकते हैं ।
  • 5:06 - 5:09
    उनका सच्‍चा अर्थ अधिक गहन में हो सकता है,
  • 5:09 - 5:14
    पर इसका अर्थ अन्‍य प्राचीन परंपराओं के समान ही है ।
  • 5:14 - 5:19
    ईसाई धर्म में, पक्षी या कपोत प्राय: ईसा के सिर पर देखा जा
  • 5:19 - 5:24
    सकता है जो छठे चक्र और उससे आगे बढ़ते
  • 5:24 - 5:29
    समय पवित्र आत्‍मा या कुंडलिनी शक्ति दर्शाता है।
  • 5:29 - 5:36
    ईसाई धर्म के रहस्‍यवादियों ने कुंडलिनी को पवित्र आत्‍मा कह कर अन्य नाम से पुकारा।
  • 5:39 - 5:45
    जान 3:12 में कहा गया है “और जैसे मोसेस ने बीहड़ में सर्प का उत्‍थान
  • 5:45 - 5:51
    किया उसी तरह मनुष्‍य के पुत्र का भी उत्‍थान किया जाए“
  • 5:51 - 5:56
    जीसस तथा मोसेस ने अपनी कुंडलिनी ऊर्जा को जागृत करते हुए अचेतन रेंगने वाली शक्तियों को जागृत
    सचेतनता की ओर उन्‍मुख किया,
  • 5:56 - 6:03
    जिससे मानवीय लालसा संचालित होती है ।
  • 6:03 - 6:06
    कहा जाता है कि यीशू ने निर्जन में चालीस दिन और चालीस रातें बिताईं,
  • 6:06 - 6:13
    इस दौरान उन्‍हें शैतान द्वारा प्रलोभित किया गया ।
  • 6:13 - 6:18
    इसी प्रकार, बुद्ध को `मरा` द्वारा प्रलोभन दिया गया और उन्‍होंने बौद्धिवृक्ष
  • 6:18 - 6:25
    या बुद्धिमत्‍ता वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्‍त किया ।
  • 6:27 - 6:31
    ईसा मसीह और बुद्ध, दोनों प्रलोभन या ऐन्द्रिक
  • 6:31 - 6:38
    आनंद व सांसारिक लोभों से दूर रहे ।
  • 6:38 - 6:45
    प्रत्‍येक कहानी में, दानवी वृत्ति, व्यक्ति के अपने मोह का मानवीकरण ही है ।
  • 7:01 - 7:06
    यदि हम वैदिक और मिस्र की परंपराओं के प्रकाश में आदम और हव्‍वा की कहानी पढ़ते हैं तो हम पाते हैं कि
  • 7:06 - 7:11
    जीवन वृक्ष के लालच और प्रलोभन का प्रतिनिधित्‍व करता है ।
  • 7:11 - 7:16
    आंतरिक संसार के ज्ञान से हमारा ध्‍यान भंग
  • 7:16 - 7:19
    करते हुए ज्ञान का वृक्ष
  • 7:19 - 7:26
    हमारे भीतर है ।
  • 7:34 - 7:39
    अपने अहं के पोषण तथा बाहरी आकर्षणों के फेर में पड़कर हम अपने आंतरिक जगत
  • 7:39 - 7:45
    की जानकारी से कट जाते
  • 7:45 - 7:48
    हैं और आकाश
  • 7:48 - 7:53
    तथा बुद्धिमता स्रोत से
  • 7:53 - 8:00
    हमारा संपर्क टूटने लगता है ।
  • 8:07 - 8:10
    पर वाले सर्पों (ड्रैगन) के बारे में विश्‍व के कई ऐतिहासिक मिथकों को,
  • 8:10 - 8:12
    संस्‍कृतियों की आंतरिक ऊर्जा के रूपकों के रूप में पढ़ा जा सकता है,
  • 8:12 - 8:16
    जिसमें उन्‍हें अंत: स्‍थापित किया गया है।
  • 8:16 - 8:23
    चीन में, पर वाला सर्प अभी भी पवित्र प्रतीक है जो प्रसन्‍नता का प्रतिनिधित्‍व करता है ।
  • 8:24 - 8:28
    मिस्र के फरोहा की भाँति,
  • 8:28 - 8:31
    विकासात्मक ऊर्जा को जागृत करने वाले प्राचीन चीनी शासकों का प्रतिनिधित्व,
  • 8:31 - 8:36
    पंख वाले सर्प या ड्रैगन द्वारा किया गया।
  • 8:36 - 8:41
    जेड शासक या सेलेस्टियल शासक के शाही कुलचिह्न इड़ा
  • 8:41 - 8:46
    और पिंगला के समान संतुलन दर्शाते हैं ।
  • 8:46 - 8:50
    शंकुरूप केन्‍द्र को जागृत करने वाले ताओवादी यिन
  • 8:50 - 8:57
    एवं यांग या जिसे ताओवाद में उच्च डेंटियन कहा जाता है।
  • 9:07 - 9:09
    प्रकृति विभिन्‍न प्रकार के अभिज्ञान और आत्‍म
  • 9:09 - 9:11
    साक्षात्‍करण के प्रकाश से परिपूर्ण है ।
  • 9:11 - 9:16
    उदाहरण के लिए, समुद्र की जलसाही दरअसल अपने नुकीले शरीर से देख सकती है,
  • 9:16 - 9:20
    जो एक बड़े नेत्र के रूप में कार्य करता है।
  • 9:20 - 9:23
    जलसाही अपने रीढ़ पर आघात करने वाले प्रकाश का अभिज्ञान करती है और
  • 9:23 - 9:30
    अपने परिवेश की चेतना अनुभव करने के लिए किरणपुंज की सघनताओं की तुलना करती है ।
  • 9:37 - 9:40
    हरी गोह तथा अन्‍य रेंगनेवालों जीव के सिर के ऊपर
  • 9:40 - 9:44
    भित्‍तीय आंख या शंकुरूप ग्रंथि होती है जिससे
  • 9:44 - 9:51
    वे ऊपर से परभक्षी का पता लगाते हैं।
  • 9:57 - 10:00
    मानव शंकुरूप ग्रंथि एक लघु अंत:स्रावी ग्रंथि होती है जो चलने
  • 10:00 - 10:04
    एवं सोने की क्रियाएं विनियमित करती है ।
  • 10:04 - 10:07
    यद्यपि यह सिर की गहराई में गड़ी होती हैं, तथापि शंकरूप
  • 10:07 - 10:12
    ग्रंथि प्रकाश के प्रति संवेदनशील होती है ।
  • 10:12 - 10:15
    दार्शनिक डिसकार्टस ने माना कि शंकरूप ग्रंथि स्‍थल या तीसरी आंख,
  • 10:15 - 10:21
    चेतनता तथा पदार्थ के बीच अंतरापृष्‍ठ है ।
  • 10:21 - 10:23
    प्राय: प्रत्‍येक वस्‍तु मानव शरीर में समनुरूप है ।
  • 10:23 - 10:30
    दो आंख, दो कान, दो नासिका यहां तक कि मस्तिष्‍क के भी दो पक्ष हैं ।
  • 10:31 - 10:34
    लेकिन मस्तिष्‍क का एक क्षेत्र है जो प्रतिरूप प्रस्‍तुत नहीं करता ।
  • 10:34 - 10:40
    यह शंकरूप ग्रंथि क्षेत्र और उसे चारों ओर से घेरने वाला ऊर्जावान केंद्र है ।
  • 10:40 - 10:43
    शारीरिक स्‍तर पर विशिष्‍ट अणु शंकरूप ग्रंथि द्वारा प्राकृतिक
  • 10:43 - 10:47
    रूप से निर्मित होते हैं जैसे डीएमटी ।
  • 10:47 - 10:53
    डीएमटी जन्‍म के समय और मृत्‍यु के समय
  • 10:53 - 10:59
    प्राकृतिक रूप से निर्मित होते हैं ।
  • 10:59 - 11:05
    शाब्दिक रूप से यह जीवित और मृत संसार के बीच
  • 11:05 - 11:10
    अनन्‍य पुल का कार्य करते हैं ।
  • 11:10 - 11:15
    डीएमटी गहन ध्‍यान की स्थिति और समाधि पर एंथीयोजेनिक उपायों
  • 11:15 - 11:22
    के माध्‍यम से उत्‍पादित होता है ।
  • 11:23 - 11:27
    उदाहरण के लिए, आयुष्‍का दक्षिण अमरीका में शमनिक परंपराओं में प्रयुक्‍त होता है ताकि आंतरिक
  • 11:27 - 11:33
    और बाहरी संसार के बीच के परदे को दूर किया जा सके ।
  • 11:33 - 11:36
    यह पद्धति जीवन पद्धति के पुष्‍प के रूप में अभिज्ञात है,
  • 11:36 - 11:41
    जो जागृत या आत्‍मावलोकित प्राणी को चित्रित करने वाली प्राचीन कला कार्य में सामान्‍य है
  • 11:41 - 11:45
    जब देवदारु फल की छवि पवित्र कला कार्य में दिखाई देती है
  • 11:45 - 11:50
    तो यह जागृत तीसरी आंख, विकासात्‍मक ऊर्जा के प्रवाह को निर्देशित
  • 11:50 - 11:55
    करते हुए एकल बिंदु चेतना का प्रतिनिधित्‍व करती है ।
  • 11:55 - 11:59
    देवदारु का फल उच्‍चतर चक्रों के खिलने का प्रतिनिधित्‍व करता है
  • 11:59 - 12:06
    जो ज्ञान चक्र और उससे आगे बढ़ने के लिए सुषुम्‍ना के रूप में सक्रिय होता है ।
  • 12:07 - 12:10
    ग्रीक पुराण में डॉयोनिसस के उपासकों ने देवदारु
  • 12:10 - 12:16
    फल सहित सर्पिल वल्‍लरी से लपेटकर थायरसस या दैत्‍यों को उठाया था।
  • 12:16 - 12:21
    दोबारा, यह मेरुदंड से शुंकरूप ग्रंथि के छठे चक्र में जाते हुए डायनेसियन
  • 12:21 - 12:28
    ऊर्जा या कुंडलिनी शक्ति का प्रतिनिधित्‍व करती है।
  • 12:31 - 12:34
    वैटिकन के हृदय में आप यीशु या मेरी की वृहत् प्रतिमा की आशा कर सकते हैं,
  • 12:34 - 12:40
    लेकिन इसके स्‍थान पर हम वृहद् देवदारु फल की प्रतिमा पाते
  • 12:40 - 12:43
    हैं जो सूचित करता है कि ईसाई इतिहास में चक्रों
  • 12:43 - 12:46
    तथा कुंडलिनी के बारे में जानकारी थी, लेकिन किन्‍हीं कारणों
  • 12:46 - 12:48
    से उसे जन-समूह से दूर रखा गया।
  • 12:48 - 12:51
    शासकीय चर्च का स्‍पष्‍टीकरण है कि देवरारु का फल पुनरुत्‍पादन का प्रतीक
  • 12:51 - 12:58
    है और ईसा में नए जन्‍म का प्रतिनिधित्‍व करता है।
  • 13:03 - 13:10
    तेरहवीं शताब्‍दी के दार्शनिक व रहस्‍यावादी मीस्‍टर एक्‍खार्ट ने कहा है,
  • 13:15 - 13:21
    “वह नेत्र जिससे मैं ईश्‍वर को देखता हूं और
  • 13:21 - 13:26
    वह नेत्र जिससे ईश्‍वर मुझे देखता है, एक ही है ।“
  • 13:26 - 13:31
    किंग जेम्‍स बाईबल में यीशु ने कहा है “शरीर का प्रकाश नेत्र है ।
  • 13:31 - 13:38
    यदि एक भी नेत्र है तो संपूर्ण शरीर प्रकाश से परिपूर्ण होगा।”
  • 13:47 - 13:52
    बुद्ध ने कहा “शरीर एक नेत्र है ।”
  • 13:52 - 13:58
    समाधि की अवस्‍था में, दृष्टा और देखे जाने वाला दोनों एक हैं ।
  • 13:58 - 14:05
    हम स्‍वयं विश्‍वात्‍मा हैं ।
  • 14:14 - 14:18
    जब कुंडलिनी सक्रिय होती है, यह छठे चक्र को और शंकुरूप केन्‍द्र
  • 14:18 - 14:21
    को उद्दीप्‍त करती है एवं यह क्षेत्र अपने कुछ विकासात्‍मक कार्यों को पुन:
  • 14:21 - 14:27
    प्राप्‍त करना आरंभ कर देता है ।
  • 14:27 - 14:29
    गूढ़ ध्‍यान शंकुरूप ग्रंथि के क्षेत्र में छठे चक्र को सक्रिय करने के लिए
  • 14:29 - 14:36
    हजारों वर्षों से प्रयुक्‍त होता रहा है ।
  • 14:36 - 14:42
    इस केन्‍द्र की सक्रियता से व्‍यक्ति को अपने आंतरिक प्रकाश को देखने की दृष्टि मिलती है ।
  • 14:42 - 14:46
    भले ही लोकप्रसिद्ध योगी हों या गुफ़ा के एकांत में बसे शमन,
  • 14:46 - 14:52
    या ताओवादी हों या तिब्‍बती मठवासी, सभी परंपराएं उस अवधि
  • 14:52 - 14:57
    को समाविष्‍ट करती हैं जिसमें व्‍यक्ति तम में उतरता है ।
  • 14:57 - 15:04
    शंकुरूप ग्रंथि व्‍यक्ति का प्रत्‍यक्ष रूप से सूक्ष्‍म ऊर्जा अनुभव करने का मार्ग है ।
  • 15:05 - 15:10
    दार्शनिक नीत्‍शे ने कहा है “यदि आप रसातल पर काफ़ी देर तक नज़रें गढ़ते हैं,
  • 15:10 - 15:17
    तो अंततोगत्‍वा आप पाते हैं कि अगाध गर्त आपको घूर रहा है।”
  • 15:18 - 15:25
    पुराकालिक स्‍मारक या प्राचीन द्वारा वाले कब्र पृथ्‍वी पर शेष प्राचीनतम ढांचे हैं।
  • 15:26 - 15:32
    अधिकांश ईसा पूर्व 3000-4000 की नवप्रस्‍तर अवधि के और
  • 15:32 - 15:36
    पश्चिमी यूरोप में कुछ सात हजार वर्ष पुराने हैं।
  • 15:36 - 15:40
    पुराकालिक स्‍मारक का प्रयोग मानव द्वारा आंतरिक तथा बाहरी संसार के बीच सेतु निर्माण के एक
  • 15:40 - 15:47
    उपाय के रूप में निरंतर ध्‍यान में प्रवेशार्थ उपयोग किया गया था।
  • 15:47 - 15:51
    चूंकि जब कोई निरंतर अंधकार में ध्यान केंद्रित करना जारी रखता है,
  • 15:51 - 15:58
    तो अंततोगत्‍वा आंतरिक ऊर्जा या प्रकाश को तीसरे नेत्र के सक्रिय होने के रूप में देखने लग जाता है।
  • 16:00 - 16:04
    सूर्य तथा चंद्रमा माध्‍यमों से संचालित जीव चक्रीय लय, शरीर के कार्यों को अधिक
  • 16:04 - 16:11
    समय तक नियमित नहीं कर सकती और नया ताल स्‍थापित हो जाता है।
  • 16:16 - 16:19
    हजारों वर्षों से सातवां चक्र `ओम्` प्रतीक
  • 16:19 - 16:22
    रूप में प्रतिनिधित्‍व करता रहा है।
  • 16:22 - 16:28
    ऐसा प्रतीक जो तत्‍वों को प्रतिनिधित्‍व करने वाले संस्‍कृत चिह्नों से निर्मित हुआ ।
  • 16:28 - 16:32
    जब कुंडलिनी छठे चक्र से आगे उठती है तो ऊर्जा तेजोमंडल (हेलो) का
  • 16:32 - 16:35
    सृजन आरंभ होता है ।
  • 16:35 - 16:37
    तेजोमंडल संसार के विभिन्‍न भागों में विभिन्‍न परंपराओं की
  • 16:37 - 16:44
    धार्मिक चित्रकलाओं में अनवरत दृष्टिगोचर होती है ।
  • 17:31 - 17:34
    जागृत प्राणी के आसपास तेजोमंडल या ऊर्जा
  • 17:34 - 17:38
    का वर्णन विश्‍व के सभी भागों में वास्‍तविक सभी
  • 17:38 - 17:43
    धर्मों में सामान्‍य है ।
  • 17:43 - 17:46
    चक्रों को जागृत करने की विकासात्‍मक प्रक्रिया किसी
  • 17:46 - 17:50
    एक समूह या एक धर्म की संपत्ति नहीं है बल्कि
  • 17:50 - 17:57
    ग्रह पर प्रत्‍येक प्राणी मात्र का जन्‍मजात अधिकार है ।
  • 18:08 - 18:12
    शीर्ष चक्र दिव्‍यता से संबद्ध है,
  • 18:12 - 18:15
    जो द्वैत से आगे है ।
  • 18:15 - 18:22
    नाम और रूप से आगे ।
  • 18:22 - 18:28
    अखेनातेन एक फरोआ था जिसकी पत्‍नी नेफरतिति थी ।
  • 18:28 - 18:32
    उसका उल्‍लेख सूर्य पुत्र के रूप में किया गया है ।
  • 18:32 - 18:37
    उसने एटेन या स्‍वयं में ईश्‍वर के शब्‍द का पुन: अनुसंधान किया,
  • 18:37 - 18:44
    जिससे कुंडलिनी एवं चेतनता को समन्वित किया गया ।
  • 18:47 - 18:51
    इजिप्‍ट आईकोनोग्राफी में, एक बार फि‍र जागृत
  • 18:51 - 18:55
    चेतना का ईश्‍वर या जागृत प्राणी के शीर्षों से ऊपर देखी
  • 18:55 - 19:02
    गई सौर चक्रिका द्वारा प्रतिनिधित्‍व किया जाता है ।
  • 19:04 - 19:07
    हिन्‍दू तथा यौगिक परंपराओं में, इस तेजोमंडल को `सहस्रार` –
  • 19:07 - 19:14
    हजार पंखुड़ी वाला कमल कहा गया है ।
  • 19:18 - 19:23
    बुद्ध को कमल के प्रतीक से संबद्ध किया गया है ।
  • 19:23 - 19:27
    पर्णविन्‍यास वही पद्धति है जिसे खिलते हुए
  • 19:27 - 19:29
    कमल में देखा जा सकता है ।
  • 19:29 - 19:31
    यह जीवन पद्धति का पुष्‍प है ।
  • 19:31 - 19:33
    जीवन का बीज ।
  • 19:33 - 19:37
    यह एक बुनियादी पद्धति है जिसमें सभी रूप अनुकूल हो जाते हैं ।
  • 19:37 - 19:44
    यह अंतरिक्ष का ठीक आकार है या आकाश में अंतनिर्हित गुणवत्‍ता है ।
  • 19:54 - 20:01
    इतिहास में किसी समय जीवन प्रतीक का पुष्‍प संपूर्ण पृथ्‍वी पर व्याप्त था।
  • 20:03 - 20:06
    चीन के अधिकांश पवित्र स्‍थलों और एशिया के अन्‍य
    55
    204
    00:20:05,567 --> 00:20:12,567
    भागों में शेरों को जीवन-पुष्‍प की रक्षा करते हुए देखा जा सकता है ।
  • 20:17 - 20:22
    1 चिंग का 64 हैक्‍साग्राम प्राय: यिनयांग प्रतीक को घेरे रहता है, जो जीवन पुष्प का
  • 20:22 - 20:27
    प्रतिनिधित्‍व करने का एक और तरीका है ।
  • 20:27 - 20:30
    जीवन पुष्प के भीतर सभी आध्यात्मिक ठोस पदार्थों के लिए ज्‍यामितिक आधार है;
  • 20:30 - 20:33
    अनिवार्य रूप से ऐसा स्वरूप,
  • 20:33 - 20:37
    जिसका अस्तित्‍व हो सकता है ।
  • 20:37 - 20:40
    जीवन का प्राचीन फूल डेविड के सितारे की ज्‍यामिती से आरंभ
  • 20:40 - 20:45
    होता है या त्रिकोणों का सामना करते हुए ऊर्ध्वगामी या अधोगामी होता है या
  • 20:45 - 20:49
    3डी में ये चतुष्‍फलकीय संरचनाएं हो सकती हैं ।
  • 20:49 - 20:56
    यह प्रतीक एक यंत्र है, एक प्रकार का प्रोग्राम, जो ब्रह्माण्‍ड के भीतर अस्त्त्वि में है,
  • 20:56 - 21:01
    वह मशीन जो संसार में हमारे अंश जनित कर रही है ।
  • 21:01 - 21:04
    यंत्रों का हजारों वर्षों से चेतना जागृत करने के लिए
  • 21:04 - 21:06
    उपकरणों के रूप में उपयोग किया जा रहा है ।
  • 21:06 - 21:11
    यंत्र का दृश्‍य रूप आध्‍यात्मिक अनावरण की
  • 21:11 - 21:18
    आंतरिक प्रक्रिया का बाहरी प्रतिनिधित्‍व है ।
  • 21:18 - 21:22
    यह ब्रह्माण्‍ड के छिपे संगीत को प्रत्यक्ष करना है ।
  • 21:22 - 21:29
    ज्‍यामितिक रूपों एवं हस्‍तक्षेपीय पद्धतियों से समन्वित ।
  • 21:39 - 21:45
    प्रत्‍येक चक्र एक कमल, एक यंत्र, एक मनौवैज्ञानिक केन्‍द्र है,
  • 21:45 - 21:52
    जिसके माध्‍यम से विश्‍व का अनुभव किया जा सकता है।
  • 21:55 - 22:02
    एक पारंपरिक यंत्र, जिसे तिब्‍बती परंपरा में पाया जा सकता है,
  • 22:21 - 22:25
    अर्थ की समृद्ध परतों से परिपूरित, जो कभी कभार
  • 22:25 - 22:30
    पूर्ण ब्रह्माण्‍ड विज्ञान एवं विश्‍व दृष्टि को शामिल करता है ।
  • 22:30 - 22:33
    यंत्र सतत विकसित पद्धति है जो पुनरावृति
  • 22:33 - 22:35
    की शक्ति या चक्र की अन्‍योन्‍य
  • 22:35 - 22:38
    क्रिया के माध्‍यम से कार्य करता है ।
  • 22:38 - 22:42
    यंत्र की शक्ति सब कुछ है लेकिन वर्तमान संसार में समाप्‍त हो गई है,
  • 22:42 - 22:45
    क्योंकि हम केवल बाहरी रूप में अर्थ ढूँढ़ते हैं और हम अपने
  • 22:45 - 22:52
    अभीष्‍ट के माध्‍यम से अपनी आंतरिक ऊर्जा से इसे संबद्ध नहीं करते।
  • 22:59 - 23:02
    पादरी, मठवासी, योगियों का पारंपरिक रूप से ब्रह्मचारी
  • 23:02 - 23:04
    बने रहने के पीछे भी एक सही कारण रहा है।
  • 23:04 - 23:08
    आज केवल बहुत कम लोग जानते हैं कि वे क्‍यों ब्रह्मचर्य का अभ्‍यास कर रहे हैं,
  • 23:08 - 23:12
    चूंकि सच्‍चा प्रयोजन समाप्‍त हो गया है ।
  • 23:12 - 23:16
    सीधी-सी बात है कि जैसी भी स्थिति है,
  • 23:16 - 23:19
    आपकी ऊर्जा अधिक जीवाणु या
  • 23:19 - 23:24
    अंडों का उत्‍पापादन कर रही है । कुंडलिनी के और अधिक उत्कर्ष के लिए उत्तेजना नहीं है, जो उच्‍चतर
    चक्रों को सक्रिय करता है ।
  • 23:24 - 23:31
    कुंडलिनी जीवन ऊर्जा है, जो यौन ऊर्जा भी है ।
  • 23:34 - 23:38
    जब जागृति पाश्विक इच्‍छाओं पर कम केन्द्रित होने लगती है
  • 23:38 - 23:42
    और उच्‍च चक्रों के वास्‍तविक प्रतिबिंबन पर आ जाती है,
  • 23:42 - 23:49
    तो वह ऊर्जा मेरुदंड पर उन चक्रों में प्रवाहित होने लगती है ।
  • 23:50 - 23:55
    कई तांत्रिक अभ्‍यास करवाते हैं कि इस यौन ऊर्जा पर किस प्रकार नियंत्रण किया जाए,
  • 23:55 - 24:02
    ताकि इसका उपयोग उच्‍चतर आध्‍यात्मिक विकास में किया जा सके ।
  • 24:07 - 24:10
    आपकी चेतना की मनोदशा आपकी ऊर्जा के लिए उचित
  • 24:10 - 24:13
    स्थितियों का सृजन करती है
  • 24:13 - 24:16
    ताकि इसका विकास किया जा सके ।
  • 24:16 - 24:21
    जैसा कि एक्‍खार्ट टोले ने कहा है “जागृति एवं उपस्थिति सदैव वर्तमान में घटित होती है।“
  • 24:21 - 24:24
    यदि आप कुछ घटित होने का प्रयास कर रहे हैं तो आप
  • 24:24 - 24:28
    यथास्थिति में प्रतिरोध उत्‍पन्‍न कर रहे हैं ।
  • 24:28 - 24:31
    यह सभी तरह के प्रतिरोध को दूर करना ही है,
  • 24:31 - 24:38
    जिससे विकासात्‍मक ऊर्जा अनावृत होने लगती है ।
  • 24:38 - 24:42
    प्राचीन यौगिक परंपरा में योग क्रियाओं को ध्‍यान के लिए शरीर
  • 24:42 - 24:45
    को तैयार करने के लिए किया जाता है ।
  • 24:45 - 24:50
    हठयोग का उद्देश्‍य केवल अभ्‍यास पद्धति नहीं,
  • 24:50 - 24:54
    बल्कि व्‍यक्ति का आंतरिक तथा बाहरी संसार से संपर्क साधना है ।
  • 24:54 - 25:01
    संस्‍कृत शब्‍द `हठ` का अर्थ `सूर्य` का `ह` तथा चंद्रमा का `ठ` है ।
  • 25:02 - 25:05
    पतंजलि के मूल योग सूत्र में योग के आठ
  • 25:05 - 25:07
    अवयवों का प्रयोजन बुद्ध की आठ परतों
  • 25:07 - 25:11
    के मार्ग के समान है, जिससे
  • 25:11 - 25:15
    व्‍यक्ति पीड़ाओं से उबर सके ।
  • 25:15 - 25:18
    जब द्वैत विश्‍व की ध्रुवताएं संतुलन में हैं,
  • 25:18 - 25:21
    तो तीसरी वस्‍तु, उत्‍पन्‍न होती है ।
  • 25:21 - 25:24
    हम रहस्‍यपूर्ण स्‍वर्ण कुंजी पाते हैं जो प्रकृति की
  • 25:24 - 25:28
    विकासात्‍मक शक्तियों को खोलती हैं ।
  • 25:28 - 25:35
    सूर्य एवं चंन्‍द्रमा का यह संश्‍लेषण हमारी विकासात्‍मक ऊर्जा है ।
  • 25:44 - 25:46
    चूंकि मनुष्‍य अब अनन्‍य रूप से आंतरिक एवं बाहरी
  • 25:46 - 25:49
    संसार तथा अपने विचारों से जाना जाता है अतएव
  • 25:49 - 25:52
    ऐसे विरल व्‍यक्ति हैं जो आंतरिक तथा बाहरी शक्तियों
  • 25:52 - 25:56
    का संतुलन प्राप्‍त करते हैं जिससे कुंडलिनी
  • 25:56 - 26:00
    प्राकृतिक रूप से जागृत हो जाती है ।
  • 26:00 - 26:03
    जो केवल संयम में रहते हैं,
  • 26:03 - 26:07
    उनके लिए कुंडलिनी हमेशा रूपक,
  • 26:07 - 26:12
    एक विचार बनी रहती है न कि व्‍यक्ति की ऊर्जा और
  • 26:12 - 26:14
    यह चेतना का प्रत्‍यक्ष अनुभव बन जाती है ।
Title:
IWOW - Part 3 - The Serpent and the Lotus
Description:

more » « less
Video Language:
English
Team:
Awaken the World
Project:
Inner Worlds, Outer Worlds
Duration:
26:30

Hindi subtitles

Revisions