Hindi subtitles

← लचीला लोगों के 3 रहस्य

हर कोई नुकसान का अनुभव करता है, लेकिन आप कठिन क्षणों का कैसे सामना करते हैं? लचीलापन शोधकर्ता लुसी होन ने बहादुरों की प्रतिकूलता को विकसित करने, संघर्ष से उबरने और भाग्य और अनुग्रह के साथ जो कुछ भी सामने आ सकता है, सामना करने की क्षमता के लिए तीन कठिन-जीत की रणनीतियों को साझा किया।

Get Embed Code
43 Languages

Showing Revision 14 created 10/05/2020 by Abhinav Garule.

  1. तोह में शुरुआत करना चाहूंगी,
    आपसे कुछ प्रश्न करके, अगर अनुमति हो तो।
  2. अगर आपने किसी चाहने वाले को खोया है,
  3. अगर आपका दिल टुटा है,
  4. अगर आप एक तीखे तलाख से गुज़रे हो,
  5. या आप बेवफाई के शिकार हुए हो,
  6. कृपया खड़े होजाये ।
  7. अगर आप खड़े नहीं हो पाएंगे,
    तोह केवल अपना हाथ उठा दीजिये।
  8. कृपया खड़े रहिये
  9. या अपना हाथ ऊपर ही रखे।
  10. अगर आप किसी प्राकृतिक आपदा से
    बच निकले है,
  11. आप धमकाए गए है
    या निरर्थक हुए है,
  12. खड़े हो जाये,
  13. अगर आपका कभी गर्भपात हुआ है,
  14. अगर आपने बचा गिराया है,
  15. या आप बांझपन से झुँझे है,
  16. कृपया खड़े हो जाए,
  17. अंत में, अगर आप या आपके किसी चाहने वाले ने
  18. मानसिक बीमारी, पागलपन
  19. या शारीरिक हानि झेली है,
  20. या आत्महत्या का सामना किया है,
  21. कृपया खड़े हो जाए।
  22. अपने आस पास देखे
  23. विपत्ति भेदभाव नहीं करती।
  24. अगर आप जीवित है,
  25. आपको गुज़ारना पड़ेगा,
    या आप गुज़र चुके है ,
  26. कठिन परस्तिथयो से।
  27. धन्यवाद सबका, कृपया बैठ जाए।
  28. मैंने लचिलाता के बारे में एक दशक पेहले
    पढ़ना शुरू किया था।

  29. यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया,
    फ़िलेडैल्फ़िया में।
  30. यह एक अद्भुत समय था उधर रहने का,
  31. क्योंकि जो प्रोफेसर मुझे पढ़ा रहे थे,
  32. उन्होंने तभी एक अनुबंध लिया था 1.1 मिलियन
    अमेरिकी सिपाहियों को सिखाने का
  33. की वे शारीरिक ही नहीं
    मानसिक रूप से भी स्वस्थ रह।
  34. जैसा की आप सोच सकते है,
  35. आपको इससे ज़्यादा अविश्वासी
    और ज्ञानी लोग नहीं मिलते,
  36. जितने की ये ड्रिल ̨सार्जेंट
    जो अफ़ग़ानिस्तान से आ रहे थे।
  37. तोह मेरे जैसे किसी के लिए,
  38. जिसका जीवन में लक्ष्य ही था यह समझना की
  39. हम वैज्ञानिक निष्कर्षो में से
    सबसे अच्छे कैसे निकालके
  40. आम लोगों तक पहुंचा सके,
  41. वह एक प्रेरणादायक जगह थी।
  42. मेन अप्नी पढ़ाई अमेरिका में पूरी की ,

  43. फिर यहा अपने घर क्रिस्टचर्च मे लौटी
  44. डॉक्टोरल रिसर्च करने ।
  45. मैने ये पढ़ाई बस शुरू ही की थी
  46. और उस समय क्रिस्टचर्च भूकंप से हिल गया ।
  47. इस वजह से मैने रिसर्च को रोक दिया,
  48. और अपने होम कम्यूनिटी के साथ काम करने लगी
  49. जिससे उस दर्दनाक हादसे में
    मैं उनकी मदद कर साकु ।
  50. मैं कई संगठनों के साथ काम किए है
  51. गवरमेंट डिपार्टमेंट से लेके कंपनी बनाना
  52. और कई प्रकार के कम्यूनिटी ग्रूप्स,
  53. उन्हें तरीके सिखाना
    सोचने और कार्य करने के
  54. कि हम लचीलापन को बढ़ावा देना जानते हैं ।
  55. मुझे लगा ये मेरी बुलावट है
  56. वह क्षण था अपने अनुसंधान का
    अच्छा उपयोग करने के लिए
  57. दुखकी बात यह है की मैं ग़लत थी
  58. मेरी अपनी परीक्षा सच हुई 2014 में

  59. रानी के जन्मदिन के वीकेंड पर
  60. हम दोनों ने और कुछ परिवारों ने तय किया था
  61. ओहाऊ झील से होते हुए
    सागर को देख आए
  62. आखरी वक्त में
  63. मेरी सुंदर 12 वर्षीय बेटी अबी
    उसके सबसे अच्छे दोस्त,
  64. एला के साथ, जो 12 साल की थी,
  65. गाड़ी में जानेका फ़ैसला किया
    एला की माँ के साथ
  66. आगे रास्ते में रकैया के पास से गुज़रते
  67. थॉंप्सन ट्रॅक पे
  68. एक कार एक स्टॉप साइन के यहा
    तेज़ रफ़्तार से गुज़री
  69. उनमें दुर्घटनाग्रस्त हो गया
  70. और तीनो तभी के तभी गुज़र गये
  71. पलक झपकते ही


  72. मैं खुद को बहती हुई पाती हूं
    समीकरण के दूसरी तरफ,

  73. एक नई पहचान के साथ जागना।

  74. लचीलापन विशेषज्ञ होने के बजाय,

  75. अचानक, मैं दुखी माँ हूँ।
  76. जागते हुए न जाने कि मैं कौन हूं,

  77. मेरे सिर को लपेटने की कोशिश कर रहा है
    चारों ओर अकल्पनीय समाचार,

  78. मेरी दुनिया सुलगने लगी।
  79. अचानक, मैं अंत में
    इस विशेषज्ञ सलाह के अंत में हूँ
  80. और मैं यह कह सकती हू,
  81. मुझे पसंद नहीं आया जो मैंने सुना।
  82. अबी के गुज़रने के कुछ दीनो बाद


  83. हमें बताया गया कि हम अब थे
    परिवार व्यवस्था के लिए प्रमुख उम्मीदवार।

  84. कि हमारे तलाक होने की संभावना थी

  85. और हम उच्च जोखिम में थे मानसिक बीमारी के

  86. "वाह," मुझे याद है,
  87. "इसके लिए धन्यवाद, हालांकि
    मेरी ज़िंदगी पहले से ही खराब थी। "
  88. (हंसी)


  89. पर्चे बताए गए
    दु: ख के पाँच चरण:


  90. क्रोध, सौदेबाजी, इनकार,
    अवसाद, स्वीकृति।

  91. हमारे दरवाजे पर पीड़ित समर्थन आया

  92. और हमसे कहा कि हम उम्मीद कर सकते हैं
    दु: ख के लिए अगले पांच साल लिखने के लिए।
  93. मुझे पता है कि पत्रक
    और संसाधनों का उद्देश्य इरादा के लिए ही था

  94. लेकिन उस सलाह में,
  95. उन्होंने हमें पीड़ितों की तरह महसूस किया।
  96. आगे की यात्रा से पूरी तरह अभिभूत,
  97. और किसी भी प्रभाव को समाप्त
    करने की शक्तिहीन
  98. जो कुछ भी हमारे दुख की बात है।

  99. मुझे बताने की जरूरत नहीं थी
    कितनी बुरी बातें थीं।
  100. मेरा विश्वास करो, मैं पहले से ही जानता था
    चीजें वास्तव में भयानक थीं।
  101. मुझे जिसकी बेहद ज़रूरी थी वह थी आशा
  102. मुझे एक यात्रा की आवश्यकता थी
    उस पीड़ा के माध्यम से,
  103. दर्द और लालसा
  104. उससे ज़्यादा,
  105. मैं एक सक्रिय प्रतिभागी बनना चाहती थी
    मेरे दुःख की प्रक्रिया में।
  106. इसलिए मैंने उनकी सलाह पर
    अपनी पीठ मोड़ने का फैसला किया

  107. और आचरण के बजाय निर्णय लिया
    आत्म-प्रयोग का ।
  108. मैं अनुसंधान किया था, मेरे पास उपकरण थे
  109. मैं जानना चाहती था कि कितना उपयोगी है
    वे मेरे लिए
  110. इतने विशाल पहाड़ पर चढ़ने के लिए।
  111. अब, मुझे इस बात पर स्वीकार करना होगा,
  112. मैं सच में नहीं जानतीथी
    कि इसमें से कोई भी बात काम करेगा ।
  113. माता-पिता का शोक
    व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है
  114. नुकसान के सबसे कठिन पल ।
  115. लेकिन मैं अब आपको बता सकती हूं,
    की आयेज के पांच साल,
  116. जो मुझे रिसर्च द्वारा पता थी
  117. कि तुम विपरीत परिस्थितियों से उठ सकते हो,
  118. कि ऐसी रणनीतियां हैं जो काम करते हैं,
  119. की यह बिल्कुल संभव है
  120. अपने आप को सोचने के लिए
    और कुछ तरीकों से कार्य करें
  121. जो आपको कठिन समय से गुजरने मे मदद करता है।
  122. अनुसंधान का एक बहुत बड़ा समुदाय है
    जो हमें यह सब सिहा सकती है।

  123. आज, मैं सिर्फ आप से
    तीन रणनीतियों को बाँटने वाली हूँ
  124. मैं अक्सर इन रणनीतियों का
    इस्तेमाल करती हूँ
  125. इससे मुझे मेरे सबसे अंधेरे दिनों में
    सहयता मिली है।
  126. वे तीन रणनीतियां हैं
    जो मेरे सभी काम को रेखांकित करता है,
  127. और वे बहुत आसानी से
    हम सभी के लिए उपलब्ध है,
  128. कोई भी उन्हें सीख सकता है,
  129. आप उन्हें आज यहीं सीख सकते हैं।
  130. तो पहली बात,,

  131. लचीले लोगों को पता है बुआ होता है ।
  132. वे जानते हैं कि दु:ख जीवन का एक हिस्सा है
  133. इसका मतलब यह नहीं है
    वे वास्तव में
  134. इसका स्वागत करते हैं,
    वे वास्तव में भ्रम नहीं कर रहे हैं ।
  135. बस इतना है कि जब कठिन समय आते हैं,
  136. उन्हे पता है
  137. के दु:ख हर मानव के अस्तित्व हिस्सा है
  138. और यह जानने से आप बंद हो जाता है
    भेदभाव महसूस करने से
  139. जब कठिन वक्त आए
  140. मैने कभी भी अपने आप को
    यह सोचते हुए नहीं पाया,
  141. ''मैं क्यू?''
  142. वास्तव में, मुझे याद है,मैने यह सोचा
  143. ''मैं क्यू नहीं?''
  144. भयानक बातें आप के साथ होता है,
  145. जैसे वे हर किसी के साथ होता हैं ।
  146. अब यह आपकी ज़िंदगी हैं
  147. डूबने या तैरने का समय।"
  148. सच्ची दुःखद घटना
  149. क्या यह हमारे लिए काफ़ी नही...
  150. हम ऐसे युग में जी रहे है
  151. जहा हम सिद्ध ज़िंदगी के हक़दार हैं,
  152. जहां चमकदार, खुश तस्वीरें
    इंस्टाग्राम पर आदर्श हैं,
  153. जब वास्तव में,
  154. जैसा कि आप सभी ने प्रदर्शन किया
    मेरी बात की शुरुआत में,
  155. जब की सच इसके विपरीत है ।
  156. दूसरी बात

  157. लचीले लोग
  158. ध्यान से चुनने में वास्तव में अच्छे हैं
    जहां वे अपना ध्यान चुनते हैं।
  159. उन्हें वास्तविक रूप से आदत है
    स्थितियों का मूल्यांकन करने
  160. और आम तौर पर, उन चीजों पर
    ध्यान केंद्रित करते हैं
  161. जिन्हें वे बदल सकते हैं

  162. और किसी तरह स्वीकार करते हैं
    वे चीजें जो वे नहीं कर सकते।
  163. यह एक महत्वपूर्ण, सीखने योग्य कौशल है
    लचीलेपन के लिए

  164. मनुष्य के रूप में, हम वास्तव में अच्छे हैं

  165. खतरों और कमजोरियों पर ध्यान देने में

  166. हम नकारात्मकता में दिलचस्पी रखते है
  167. हम वास्तव में, उन्हें देखने में बहुत,
    बहुत अच्छे हैं
  168. नेगटिव भावनाए वेल्क्रो समान चिपकती हैं
  169. जबकि सकारात्मक भावनाओं और अनुभवों
    टेफ्लन की तरह उछलता है ।
  170. इस तरह से होना
    वास्तव में हमारे लिए वास्तव में अच्छा है,

  171. और हमें अच्छी तरह से सेवा की
    एक विकासवादी परिप्रेक्ष्य से।
  172. तो एक पल के लिए कल्पना मैं
    एक गुफा महिला हूं,
  173. और मैं बाहर आ रहा हूं
    सुबह में मेरी गुफा से
  174. और एक तरफ एक कृपाण दांतेदार बाघ है
  175. और एक खूबसूरत इंद्रधनुष दूसरी और
  176. यह एक तरह से मेरे अस्तित्व
    के लिओए है लाभदायक
  177. कि मैं उसे नोटिस करूं
    समस्या ये है,
  178. अब हम एक युग में रहते हैं
    जहां हम लगातार बमबारी कर रहे है
  179. दिन भर के धमकियों से,
  180. और हमारा बेचारा दिमाग
    उन हर एक ख़तरों का इलाज करता है
  181. मानो जैसे वे शेर थे
  182. हमारा खतरा फोकस, हमारी तनाव प्रतिक्रिया,
  183. स्थायी रूप से डायल किया जाता है।
  184. लचीले लोग
    नकारात्मकता को कमनहीं करते
  185. लेकिन उन्होंने भी एक तरह से तरकीब निकली है
  186. अच्छी बातों को ले लेना
  187. एक दिन, जब संदेह में डूब रही थी

  188. मैं सोच को स्पष्ट रूप से याद करता हूं,
  189. “नहीं, तुम अपने आप को उसे निगलने मत देना
  190. तुम्हें डटें रहना है
  191. आपके पास जीने के कई वजह है
  192. ज़िंदगी चुनओ, मृत्यु नही
  193. जो आपके पास है, उसे खोना नही
  194. आपने किस पर हार मान ली है?
  195. मनोविज्ञान में,इसे हम खोज का लाभ कहते हैं
  196. मेरी बहादुर नई दुनिया में,
  197. इसमें चीजों को खोजने की कोशिश
    करना शामिल था के लिए आभारी होना।
  198. कम से कम हमारी मृत लड़की
  199. उसे कोई भयानक लंबी, खींची नही
  200. वह अचानक, कम समय में गुज़र गयी
  201. हमें और उसके दर्द को बख्शते हुए।
  202. हमारे पास बहुत में सामाजिक समर्थन था
    परिवार और दोस्तों से
  203. हमारी सहायता के लिए
  204. उससे भी ज़्यादा,
  205. अब भी हमारे दो खूबसूरत लड़के हैं
  206. जीने के लिए जिन्हे हमारी ज़रूरत थी अभी.
  207. और एक सामान्य जीवन जिसके वे योग्य है
    हम संभवतः उन्हें दे सकते
  208. आपके फोकस स्विच
    करने में सक्षम होने के नाते
  209. और अच्छाई को भी साथ ले


  210. विज्ञान द्वारा दिखाया गया है
    वास्तव में शक्तिशाली रणनीति है
  211. 2005 में मार्टिन सेलिग्मन
    और उनके सहकर्मियों ने एक्सपेरिमेंट की


  212. और उन्होंने लोगों से पूछा,
    उन्होंने सभी लोगों को करने के लिए कहा,

  213. तीन अच्छी चीजों के बारे मेंसोचना था
    जो हर दिन उनके साथ हुआ था।

  214. छह महीने में उन्होंने क्या पाया
    इस अध्ययन के दौरान,
  215. वह लोग थे जिन्हों ने
    कृतज्ञता के उच्च स्तर को दिखाया
  216. उँचे स्तर की खुशी

  217. और कम अवसाद
    छह महीने के अध्ययन के दौरान
  218. जब आप दुख से गुज़रते हो,
  219. आपको याद दिलाना होगा,
  220. या आपको अनुमति की आवश्यकता हो सकती है
    आभारी होने के लिए

  221. हमारी रसोई में, हमारे पास
    एक चमकदार गुलाबी नीयन पोस्टर है
  222. जो हमें अच्छे को "स्वीकार" करने
    की याद दिलाता है।
  223. अमरीकी आर्मी में
  224. उन्होंने इसे थोड़ा अलग तरीके से तैयार किया।

  225. उन्होंने सेना से बात की
    अच्छे सामान का शिकार करने के बारे में।
  226. आपके लिए काम करने वाली भाषा खोजें,
  227. पर जो कुछ भी आप करें
  228. जानबूझकर, सोच समझकर निरंतर इरादे बनाओ,

  229. अपनी दुनिया में जो अच्छा उसे पाने के लिए
  230. तीसरी बात,

  231. लचीले लोग खुद से पूछते हैं,
  232. "क्या मैं मदद कर रहा हूं या
    मुझे नुकसान पहुंचा रहा हूं?"
  233. यह एक प्रश्न है जिसका उपयोग किया जाता है
    अच्छी चिकित्सा में बहुत कुछ।
  234. क्या यह शक्तिशाली है।

  235. यह मेरा सवाल था

  236. लड़कियों के मरने के बाद के दिनों में।

  237. मैं इसे बार-बार पूछूंगा।

  238. "क्या मुझे मुकदमे में जाना चाहिए।"
    और ड्राइवर को देखना चैहीए?
  239. क्या इससे मुझे मदद मिलेगी
    या इससे मुझे नुकसान होगा?”

  240. खैर, यह मेरे लिए एक दिमाग नहीं था,

  241. मैंने दूर रहना चुना।

  242. लेकिन ट्रेवर, मेरे पति,
    ड्राइवर के साथ मिलने का फैसला किया
  243. कुछ और समय

  244. देर रात, मैं कभी-कभी खुद को ढूंढता हूं
    अबी की पुरानी तस्वीरों को देखकर
  245. ज्यादा से ज्यादा परेशान होना।
  246. मैं अपने आप से पूछती

  247. "वास्तव में? क्या यह आपकी मदद कर रहा है
    या यह आपको नुकसान पहुंचा रहा है?
  248. तस्वीरें हटा दो,
  249. उस रात के लिए सो जाओ
  250. अपने उपर दया करें''.

  251. यह प्रश्न लागू किया जा सकता है
    इतने सारे अलग-अलग संदर्भों के लिए।

  252. जिस तरह से मैं सोच रही हूं
    और कार्य कर रही हूं
  253. आपकी मदद करना या नुकसान पहुचने,
  254. अपनी बोली में उस पदोन्नति को पाने के लिए,

  255. उस परीक्षा को पास करने के लिए,

  256. दिल का दौरा पड़ने से उबरने के लिए?
  257. इतने सारे अलग-अलग तरीके।
  258. मैं लचीलापन के बारे में बहुत कुछ लिखती हूं,


  259. और वर्षों में, यह एक रणनीति है
  260. किसी और की तुलना में
    अधिक सकारात्मक संकेत दिए है
  261. मुझे ढेर सारे पत्र और ईमेल मिलते है
  262. कई क्षेत्र के लोगों से
  263. कितना बड़ा प्रभाव पड़ा है
    उनके जीवन पर
  264. चाहे वह परिवार के
    अन्य बहस और झगड़ों को क्षमा करना हो
  265. क्रिस्मस के अतीत से,
  266. या क्या यह सिर्फ है
    सोशल मीडिया के माध्यम से निंदा करना हो
  267. चाहे वह खुद से पूछना रहा हो
  268. चाहे आपको वास्तव में आवश्यकता हो
    शराब का वह अतिरिक्त गिलास।
  269. अपने आप से पूछ रहे हैं कि
    क्या आप कर रहे हैं,
  270. जिस तरह से आप सोच रहे हैं,
  271. जिस तरह से आप कार्य कर रहे हैं
  272. आपकी मदद कर रहा है या
    आपको नुकसान पहुँचा रहा है,
  273. आपको ड्राइवर की सीट पर वापस रखता है।

  274. यह आपको कुछ नियंत्रण देता है
    अपने निर्णय लेने पर।
  275. तीन रणनीतियाँ

  276. बिल्कुल आसान

  277. वे आसानी से हम सभी के लिए उपलब्ध हैं,
  278. कभी भी, कही भी
  279. उन्हें रॉकेट साइंस की आवश्यकता नहीं है।

  280. लचीलापन कुछ निश्चित लक्षण नहीं है।
  281. यह कोई माया नही है,
  282. कि कुछ लोगों के पास है
    और कुछ लोगों के पास नहीं
  283. मुझे लगता है हम सबके ज़िंदगी में
    वह पल आता है
  284. बस उन्हें जाने देने की इच्छा है।
  285. हम सबकी की ज़िंदगी में वह पल होते है


  286. जहां हमारा जीवन पथ बिखर जाता है
  287. और यात्रा जो हमे लगा जिस पे हम जेया रहे है

  288. कुछ भयानक दिशा को छोड़ देता है
  289. इसकी हमने बिल्कुल अपेक्षा नही थी,
  290. और हमें बिल्कुल नही चाहिए था
  291. यह मेरे साथ हुआ

  292. यह कल्पना से परे भयानक था।
  293. अगर तुम कभी अपने को पा लो
    ऐसी स्थिति में जहाँ आप सोचते हैं

  294. मैं बिल्कुल इस रास्ते वापस नहीं आ रही हू
  295. मैं आपसे इन रणनीतियों का
    प्रयोग करने का आग्रह रखती हू
  296. फिरसे सोचे
  297. मैं दीखावा नही करूँगी
  298. कि ऐसे सोचना आसान था
  299. और वह सारे दर्द को नही निकालता
  300. लेकिन अगर मैने कुछ सीखा है
    इन पाँच सालों में

  301. वह यह की कि ऐसे सोचने में कोई भलाई नही है
  302. इससे कई ज़्यादा,
  303. इससे मुझे पता चला है के संभव है
  304. जीते जी शोक मानना
  305. और उसके लिए मैं हमेशा शुक्रगुज़ार रहूंगी ।
  306. शुक्रिया ।

  307. (तालिया)