Return to Video

LIFE BEYOND | Chapter 1: The Dawn (4K). An exploration of alien life & our place in the universe.

  • 0:01 - 0:03
    प्रोटोकॉल लैब्स द्वारा समर्थित।
  • 0:03 - 0:04
    अपनी जिज्ञासा का पालन करें।
  • 0:04 - 0:08
    मनुष्य जाति को आगे बढ़ाएं।
  • 0:09 - 0:12
    दो संभावनाएं हैं:
  • 0:12 - 0:15
    या तो हम इस ब्रम्हांड में अकेले हैं
  • 0:15 - 0:19
    या हम अकेले नहीं हैं।
  • 0:19 - 0:23
    दोनों ही समान रूप से भयानक हैं।
  • 0:23 - 0:27
    ~ आर्थर सी क्लार्क
  • 0:27 - 0:28
    सारे समय में
  • 0:32 - 0:35
    अंतरिक्ष की सारी आकाशगंगाओं के सभी ग्रहों पर
  • 0:40 - 0:41
    जो सभ्यताएं खड़ी हुईं
  • 0:45 - 0:46
    रात में आसमान में देखा
  • 0:50 - 0:51
    वो देखा जो हम देखते हैं
  • 0:57 - 0:59
    वो सवाल पूछे जो हम पूछते हैं
  • 1:01 - 1:05
    क्या हम अकेले हैं?
  • 1:11 - 1:14
    क्या पृथ्वी जीवन की कहानी में एकमात्र अध्याय है?
  • 1:20 - 1:22
    इसका जवाब अंतरिक्ष और समय में कहीं दूर छुपा है।
  • 1:28 - 1:31
    इतिहास में पहली बार हम असलीयत जानने के करीब हैं
  • 1:41 - 1:44
    यह खोज बतायेगी हम कौन हैं
  • 1:46 - 1:49
    और हम क्या बन सकते हैं।
  • 1:56 - 2:01
    लाइफ बीयौंड
  • 2:02 - 2:04
    पहला अध्याय
  • 2:04 - 2:09
    शुरुआत
  • 2:12 - 2:18
    अंतरिक्ष में जीवन की खोज करने के लिए हमें पहले अंदर से शुरूआत करनी होगी।
  • 2:25 - 2:28
    हमारे आसपास चौंका देने वाली जटिलता है।
  • 2:34 - 2:36
    ये कैसे मुमकिन है?
  • 2:37 - 2:42
    जीवन बनाने के लिए क्या लगता है?
  • 2:42 - 2:44
    जीवित जीव रसायन द्वारा बनते हैं।
  • 2:46 - 2:48
    हम रसायनों के भंडार हैं।
  • 2:51 - 2:53
    और रसायन विज्ञान के लिए आदर्श स्थितियां क्या हैं?
  • 2:54 - 2:56
    सबसे पहले हमें ऊर्जा चाहिए।
  • 2:56 - 3:01
    १) ऊर्जा ।।। उदाहरण - सूरज की रोशनी, भूतापीय ऊर्जा
  • 3:02 - 3:03
    पर ज़्यादा नहीं।
  • 3:04 - 3:08
    हमें सही मात्रा में ऊर्जा चाहिए, और यह हमें ग्रहों पर मिलती है,
  • 3:08 - 3:10
    क्योंकि वे उनके सूर्य के न तो ज़्यादा पास हैं न ज़्यादा दूर हैं।
  • 3:14 - 3:17
    हमें रासायनिक तत्वों की महान विविधता भी चाहिए।
  • 3:17 - 3:21
    २) भारी तत्व ।।। उदाहरण - ऑक्सीजन, कार्बन, सल्फर
  • 3:21 - 3:24
    और हमें तरल की आवश्यकता है जैसे पानी।
  • 3:24 - 3:28
    ३) तरल।।। उदाहरण - पानी
  • 3:28 - 3:29
    पर क्यों?
  • 3:30 - 3:35
    गैसों में परमाणु इतनी तेजी से चलते हैं कि वे आपस में नहीं जुड़ते।
  • 3:37 - 3:39
    ठोस पदार्थों में परमाणु हिल ही नही सकते।
  • 3:40 - 3:40
    क्योंकि वे एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं।
  • 3:42 - 3:43
    पर तरल पदार्थों में...
  • 3:44 - 3:50
    वे एक-दूसरे से जुड़ कर अणुओं को बनाते हैं।
  • 3:57 - 4:01
    पानी क्रमागत उन्नति के लिए बहुत अच्छा है।
  • 4:01 - 4:05
    अणु पानी में घुल कर जटिल चीज़ों का निर्माण करते हैं।
  • 4:06 - 4:09
    ऐसी सही स्थिति कहां मिलती है?
  • 4:09 - 4:11
    ग्रहों पर मिल सकती है।
  • 4:12 - 4:15
    और हमारी प्रारंभिक पृथ्वी लगभग परिपूर्ण थी
  • 4:18 - 4:25
    पृथ्वी - ४०० करोड़ साल पहले।
  • 4:26 - 4:30
    वह महासागरों को बनाने के लिए सूर्य से सही दूरी पर थी।
  • 4:34 - 4:37
    और उन महासागरों के नीचे,
    पृथ्वी की पपड़ी में दरारों में,
  • 4:38 - 4:41
    शानदार रसायन विज्ञान शुरू हुआ: परमाणुओं का संबंध
  • 4:41 - 4:43
    सभी प्रकारों में।
  • 5:02 - 5:05
    सटीक नुस्खा अभी भी एक रहस्य है,
    लेकिन जीवन के लिए सामग्री
  • 5:05 - 5:10
    सरल है - ऊर्जा, अणु और पानी।
  • 5:31 - 5:34
    कहीं प्रारंभिक पृथ्वी पर, बुनियादी रसायन विज्ञान
  • 5:34 - 5:38
    जीव विज्ञान बन गया - शायद एक से अधिक बार।
  • 5:43 - 5:47
    पहली कोशिकाओं में पैदा होने की संभावना
    गर्म ज्वालामुखीय पानी में थी,
  • 5:47 - 5:50
    ऐसी परिस्थितियों में जो कभी जीव विज्ञान के लिए असंभव सोची गईं थीं।
  • 5:52 - 6:00
    जीवन को हम जितना करीब से पढ़ते हैं, हम उसे उतनी ही खतरनाक जगहों पर बढ़ते देखते हैं।
  • 6:00 - 6:06
    हमारे ग्रह पर, रोगाणुओं को सबसे प्रतिकूल परिस्थितियों से बचते देखा है।
  • 6:08 - 6:16
    सूखे रेगिस्तान, बर्फीले हिमालय,
  • 6:17 - 6:18
    समुद्र की गहराइयों में।
  • 6:22 - 6:28
    अंतरिक्ष में जीवन वर्षों से पनप रहा है।
  • 6:29 - 6:31
    ऑक्सीजन के बिना।
  • 6:34 - 6:37
    नए शोध से पता चलता है कि जीवन
    4 अरब साल पहले उभरा था,
  • 6:37 - 6:40
    जब पृथ्वी एक जानलेवा जगह थी।
  • 6:44 - 6:48
    उस समय पृथ्वी पर हर जगह जवालामुखी फटते थे।
  • 6:48 - 6:51
    और १०० सालों तक हर समय बड़े उल्कापिंड टकराते थे।
  • 7:05 - 7:10
    इन चरम स्थितियों में भी,
    जीवन ने जल्दी ही एक मुकाम हासिल कर लिया।
  • 7:10 - 7:16
    जैसे ही पृथ्वी ठंडी हुई,
  • 7:16 - 7:18
    जीवन की शुरुआत हुई।
  • 7:23 - 7:26
    क्योंकि ये पृथ्वी पर जल्दी हुआ हमे लगता है
  • 7:27 - 7:28
    ये दूसरे ग्रहों पर भी जल्दी होगा।
  • 7:40 - 7:47
    पृथ्वी की कहानी हमें आशा देती है कि ब्रह्मांड में जीवन सामान्य होगा।
  • 7:48 - 7:51
    यह हमें सिखाती है कि जीवन तेजी से अभिनय कर रहा है, दृढ़ है,
  • 7:51 - 7:55
    और बुनियादी, आम सामग्री से बना है।
  • 7:58 - 8:01
    ४ अरब साल के अलगाव के बाद,
  • 8:01 - 8:06
    अंतरिक्ष में जीवन की खोज शुरू हो गई।
  • 8:10 - 8:15
    जहां पानी है वहां जीवन है
  • 8:15 - 8:18
    तो हम पृथ्वी जैसे समुद्री ग्रहों की खोज कर रहे हैैं।
  • 8:21 - 8:24
    पृथ्वी जैसे ग्रहों की खोज शुरू हो चुकी है,
  • 8:24 - 8:28
    और इसके परिणाम उत्तेजित करनेवाले हैं।
  • 8:30 - 8:34
    कैपलर-६२एफ: दूरी: १२०० प्रकाश वर्ष। आकार: १.५× पृथ्वी का आकार। तापमान: ≥ -85°f (-65° celcius)
  • 8:34 - 8:38
    उम्र: ~ ७ अरब साल। हो सकता है पानी वाला हो
  • 8:39 - 8:45
    ट्रैपिस्ट-१डी: दूरी: ५१ प्रकाश वर्ष। आकार:०.७७× पृथ्वी का आकार। तापमान: ≥ 20°f (6.66° Celcius)
  • 8:45 - 8:48
    उम्र: ७.५ अरब साल। पानी वाला हो सकता है।
  • 8:49 - 8:53
    टीगार्डन-बी: दूरी: १२ प्रकाश वर्ष। आकार: १.०७× पृथ्वी का आकार। तापमान: 20°f (6.66° Celcius)
  • 8:53 - 8:57
    उम्र: २.५ अरब साल। हो सकता है पानी हो।
  • 8:59 - 9:05
    के२-१८बी: दूरी: १११ प्रकाश वर्ष। आकार: २.७× पृथ्वी का आकार। तापमान: 100-116°f (37.7-46.6° Celcius)
  • 9:05 - 9:08
    इस ग्रह पर भाप मौजूद है।
  • 9:11 - 9:18
    हमने मुश्किल से सतह को खरोंच दिया है।
    प्रकृति का रहस्य अथाह है।
  • 9:18 - 9:21
    हमें पता है कि हमारी आकाशगंगा में पानी का भंडार है
  • 9:27 - 9:31
    जटिल रसायनों और कार्बनिक अणुओं का भंडार है
  • 9:34 - 9:38
    जिन चीजों को हम जानते हैं जो इस ग्रह पर जीवन के लिए ज़रूरी हैं
  • 9:38 - 9:41
    वे हमारी आकाशगंगा में अधिक मात्रा में उपलब्ध हैं।
  • 9:48 - 9:50
    क्या हमारे ग्रह पर जैसा हुआ
  • 9:51 - 9:53
    वैसा दूसरे ग्रहों पर भी हुआ है?
  • 9:59 - 10:06
    नंबरों को देखते हुए,
    एलियंस का अस्तित्व लगभग अपरिहार्य लगता है।
  • 10:12 - 10:17
    नए शोध से पता चला है कि ¼ तारों के पास पथरीले ग्रह होते हैं।
  • 10:17 - 10:21
    जो उनकी तरल पानी होने तक की दूरी पर परिक्रमा करते हैं।
  • 10:28 - 10:37
    हमारी मिल्की वे में ही ५० अरब पृथ्वी जैसे ग्रह हैं।
  • 10:39 - 10:45
    पूरे ब्रह्मांड में, रहने योग्य ग्रहों की संभावित संख्या चौंका देने वाली है:
  • 10:45 - 10:53
    १००,०००,०००,०००,०००,०००,०००
  • 10:56 - 11:01
    कल्पना कीजिए कि प्रकाश का प्रत्येक फ्लैश प्रतिनिधित्व करता है एक
    पृथ्वी जैसा ग्रह।
  • 11:04 - 11:11
    आपको यह एनिमेशन १ अरब साल से ज़्यादा समय के लिए देखना पड़ेगा उन सब को देखने के लिए।
  • 11:21 - 11:27
    प्रत्येक का इतिहास पृथ्वी जैसे ही खास।
  • 11:59 - 12:04
    १०० अरब से भी ज्यादा कैमिकल के मिश्रण, सालों तक बनते हैं।
  • 12:06 - 12:11
    पृथ्वी जैसे ग्रहों की तुलना
  • 12:11 - 12:16
    पृथ्वी पे सारे रेत के कणों से ज़्यादा है।
  • 12:32 - 12:40
    ग्रहों की इस बहुतायत के बीच, कई जीवन के लिए घातक होंगे।
  • 12:43 - 12:50
    ऐसे भी ग्रह हैं जो या तो बहुत ठंडे हैं या गर्म हैं। या जिनमें जानलेवा गैसे हैं।
  • 12:52 - 12:58
    कुछ का वातावरण होगा ही नही, या बहुत घातक होगा
  • 13:11 - 13:18
    कभी सोचा जाता था शुक्र ग्रह पर जीवन है। पर अब पता चला की उसका वातावरण जानलेवा है।
  • 13:20 - 13:27
    पर जीवन शायद हैबिटेबल ज़ोन तक सीमित न हो।
  • 13:31 - 13:40
    सूर्य की गर्माहट से दूर, विशाल गैस युक्त ग्रहों के चंद्रमाओं पर कुछ मिल सकता है।
  • 13:42 - 13:47
    उनकी ऊर्जा सूर्य से नही, गैस जाइंट के गुरुत्वाकर्षण बल से आती है।
  • 13:47 - 13:52
    उसकी खिंचाव से आती है।
  • 13:55 - 13:59
    शनि के चांद, ऐन्सैलेडस की सतह के भीतर एक विशाल महासागर है।
  • 13:59 - 14:04
    जहां हाइड्रोथर्मल वेंट्स के द्वारा
    जीवन का रसायन निकलते हैं।
  • 14:08 - 14:12
    टाइटन विशेष रूप से आकर्षक है -
    बुध से बड़ा
  • 14:12 - 14:16
    मीथेन कि झील और और्गैनिक कंपाउंड मौजूद हैं
  • 14:21 - 14:29
    २०२६ में नासा टाईटन पर जीवन की खोज करने के लिए एक ड्रोन भेजेगा।
  • 14:31 - 14:37
    हमारी आकाशगंगा में ऐसे १०० ट्रिलियन ऐसे चंद्रमा हो सकते हैं, ग्रहों की तुलना में १०० गुना ज्यादा।
  • 14:39 - 14:43
    कुछ तो पृथ्वी के बराबर भी हो सकते हैं, वायुमंडल और सतह पर पानी के साथ।
  • 14:44 - 14:50
    इतनी सारी जीवन की संभावनाओं के साथ ऐसा लगता बस कुछ ही समय बचा है कुछ बड़ा खोज निकालने का।
  • 14:52 - 14:56
    कुछ सोचते हैं हम खोज चुके हैं।
  • 15:02 - 15:10
    ३० जून, १९७६ को, मार्स पर वाइकिंग लैंडर ने कुछ अनोखा ढूंढ निकाला।
  • 15:13 - 15:20
    पोषक तत्वों के साथ इंजेक्ट होने के बाद, मंगल की मिट्टी के नमूनों ने हस्ताक्षरित रेडियोधर्मी गैस को निष्कासित कर दिया -
  • 15:20 - 15:22
    बिल्कुल पृथ्वी की मिट्टी की तरह।
  • 15:24 - 15:41
    निष्फल मिट्टी - कैलिफोर्निया की मिट्टी - मंगल की मिट्टी
  • 15:42 - 15:50
    क्या यह संकेत एक प्राकृतिक घटना थी, या हमारी पहली एलियन जीव विज्ञान के साथ मुठभेड़?
  • 15:51 - 15:57
    मंगल, या सौरमंडल में कहीं भी केवल एक ही जीवाणु की खोज,
  • 15:58 - 16:02
    संकेत देगी कि पूरी श्रृंखला
    विकास लौकिक है
  • 16:02 - 16:07
    रसायन और जीव विज्ञान हर जगह काम करता है।
  • 16:09 - 16:13
    उस मामले में, जीवन का निर्माण
    ब्रह्मांड में कहीं भी
  • 16:14 - 16:16
    अपवाद से अधिक, नियम होगा।
  • 16:21 - 16:28
    अगर हमने लौकिक जीवन की खोज अब तक नही की है, तो उसे करने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।
  • 16:30 - 16:37
    नासा के वैज्ञानिक सोचते हैं हम खोज के बेहद करीब हैं।
  • 16:37 - 16:39
    हम सब के जीवन काल में, ये समझ जाएंगे
  • 16:39 - 16:42
    कि सौरमंडल के दूसरे खगोलीय पिंडों में भी जीवन है।
  • 16:50 - 16:53
    हम निहितार्थ को समझेंगे यहाँ पृथ्वी पर जीवन के विकास के लिए।
  • 16:57 - 17:00
    हम तारों के आसपास ऐसे ग्रहों को ढूंढेंगे जिनको देख हम कह सकते हैं:
  • 17:00 - 17:03
    हम अभ्यस्तता के संभावित संकेत
    उनके वायुमंडल में देखते हैं।
  • 17:06 - 17:09
    ये सब आज से १०-२० साल में होएगा।
  • 17:10 - 17:12
    कितना रोमांचक है ना?
  • 17:14 - 17:18
    हम ऐसी चीज ढूंढने जा रहें हैं जिनके बारे में लोगों ने हजारों सालों से सोचा: "क्या हम अकेले हैं"?
  • 17:21 - 17:24
    और अब हम इसका उत्तर देने के बहुत पास हैं।
  • 17:29 - 17:36
    अगर हमने लौकिक जीवन ढूंढ लिया, तो हम अपने बारे में क्या जानेंगे?
  • 17:40 - 17:46
    जीवन की कहानी में पृथ्वी कौनसा अध्याय है?
  • 17:48 - 17:51
    ब्रह्मांड करीब १४ अरब साल पुराना है।
  • 17:52 - 17:55
    और हमारी आकाशगंगा १२ अरब साल पुरानी है।
  • 17:57 - 18:01
    तो, वहाँ जीवन हो सकता है जो
  • 18:02 - 18:03
    यहां के जीवन से कई गुना ज्यादा उन्नत हो
  • 18:06 - 18:10
    क्या पृथ्वी ब्रह्मांड में देर से आई है?
  • 18:11 - 18:15
    जीवन कितना पुराना हो सकता है?
  • 18:34 - 18:40
    पहले कुछ १० लाख सालों तक, ब्रह्मांड जीवन के लिए बहुत गर्म था।
  • 18:43 - 18:48
    उसका तापमान आपको ज़िन्दा उबाल देता।
  • 19:01 - 19:07
    जब तापमान जीवन के लिए सही हुआ तब कोई तारे या ग्रह नहीं थे, बस हाईड्रोजन के बड़े बादल थें।
  • 19:18 - 19:22
    ७० लाख सालों के बाद, गुरुत्वाकर्षण बल ने उन बादलों को घुमाया
  • 19:22 - 19:26
    जिससे पहले तारे जन्में।
  • 19:45 - 19:52
    पहले तारे बड़े और चमकदार थें, पर उन्हें देखने वाला कोई नहीं था।
  • 19:54 - 19:58
    जो कीमती तत्व बिग बैंग भी न बना पाया वो इन तारों के अंदर बन रहें थे।
  • 20:00 - 20:03
    वो तत्व जो बिग बैंग में बने थें
  • 20:04 - 20:05
    हाइड्रोजन, हीलियम और लीथियम थें।
  • 20:08 - 20:13
    जो चीज़े आपके जीवन को जीने लायक बनाती हैं, वो तत्व बिग बैंग में बने थें।
  • 20:16 - 20:19
    वो अकेली जगह जहां वे बने थें
  • 20:19 - 20:21
    वो उनके तारों के गर्म कोर में थी। और वो तभी आपके शरीर में पहुंच सकते थें
  • 20:22 - 20:24
    अगर वो तारे फटते।
  • 20:38 - 20:45
    पहले तारों की विस्फोटक मौतों ने ब्रह्मांड में जीवन की सामग्री भर दी।
  • 20:48 - 20:52
    उनकी राख से नए तारे पैदा हुए, इस बार पथरीले ग्रहों के साथ।
  • 20:52 - 20:56
    उनकी राख से नए तारे पैदा हुए, इस बार पथरीले ग्रहों के साथ।
  • 20:58 - 21:04
    यह वो पल था जब जीवन की सामग्री बनी ~१३.७ अरब साल पहले।
  • 21:11 - 21:18
    कुछ मानते हैं जीवन इससे पहले, गर्म ब्रह्मांड में भी उत्पन्न हो सकता था।
  • 21:26 - 21:33
    जैसे ही बिग बैंग की गर्माहट जाने लगी, ब्रह्मांड एक गोल्डिलौक्स दौर से गुज़रा।
  • 21:38 - 21:47
    बिग बैंग के कुछ १५ लाख साल बाद ब्रह्मांड का तापमान 75°f (23.8° Celcius)
  • 21:51 - 21:57
    लाखों सालों तक ये हर दिशा में गर्म था, जैसे एक कभी खत्म न होने वाले गर्मी के दिन की तरह।
  • 22:00 - 22:04
    सिध्दांत रूप में, तारे और ग्रह अंतरिक्ष के बेहद घने इलाकों में बन सकते हैं।
  • 22:04 - 22:09
    सिध्दांत रूप में, तारे और ग्रह अंतरिक्ष के बेहद घने इलाकों में बन सकते हैं।
  • 22:15 - 22:20
    अगर ऐसे इलाके थें तो पानी कहीं भी बह सकता था,
  • 22:20 - 22:24
    बिना तारों के ग्रहों पर भी जो किसी भी तारे से दूर थें।
  • 22:30 - 22:38
    क्या ये जीवन की शुरुआत थी? एलियंस बिग बैंग की ऊर्जा द्वारा जीवित रहते थे?
  • 22:44 - 22:50
    दूर कहीं एक ग्रह होगा जिसका जीवन ब्रह्मांड जितना पुराना है।
  • 22:52 - 22:57
    10 अरब वर्ष के हेड स्टार्ट के
    साथ,
  • 22:57 - 23:03
    ब्रह्मांड हमारे अपने से कहीं
    अधिक उन्नत जीवन के साथ हो
    सकता है।
  • 23:06 - 23:15
    दशकों तक खोजने के बाद भी, एलियंस के किसी भी संकेत की पुष्टि, बुद्धिमान या बुद्धिहीन, नहीं हुई है।
  • 23:18 - 23:26
    तो कहां हैं सब?
  • 23:28 - 23:35
    क्या हम सच में अकेले हो सकते हैं?
  • 23:45 - 23:55
    शायद आदिम जीवन सामान्य है, लेकिन बुद्धिमान जीवन बहुत दुर्लभ है।
  • 24:04 - 24:12
    हो सकता अंतरिक्ष बात करने के लिए बहुत बड़ा हो।
  • 24:18 - 24:22
    या शायद हम पहले हों।
  • 24:23 - 24:30
    क्या हम जीवन के इतिहास के पहले अध्याय हैं?
  • 24:45 - 24:51
    ब्रह्मांड अभी छोटा है और ग्रहों की एक बड़ी संख्या अभी पैदा नहीं हुई है।
  • 24:55 - 25:02
    जीवन की सामग्री अगले १,००,००,००,००,००,००,००० सालों तक बनती रहेगी।
  • 25:05 - 25:13
    इस दृष्टिकोण से, हम
    शुरुआत है: जीवन की
    सिम्फनी का प्रारंभिक
    माधुर्य।
  • 25:15 - 25:24
    आखिरी तारा मरता है - १०० ट्रिलियन साल
  • 25:24 - 25:29
    हमारे बाद क्या आ सकता है?
  • 25:38 - 25:46
    रैड ड्वार्फ तारे १० ट्रिलियन सालों तक रह सकते हैं, अपने ग्रहों को वर्षों तक ऊर्जा देते हुए।
  • 25:56 - 25:59
    जीवन इन समय में बहुत
    अधिक संभावित है, जहां
    स्थिति लंबे समय तक स्थिर
    रहती है।
  • 26:10 - 26:13
    जो भी जीवन ऐसे तारों के पास होगा उसे घातक प्रज्वाल झेलने होंगे।
  • 26:13 - 26:17
    जो भी जीवन ऐसे तारों के पास होगा उसे घातक प्रज्वाल झेलने होंगे।
  • 26:20 - 26:24
    इनमें से बहुत से ग्रह ज्वारबंध हों डे - एक हिस्सा हमेशा सूर्य की ओर, दूसरा हमेशा अंधकार की ओर।
  • 26:24 - 26:30
    इनमें से बहुत से ग्रह ज्वारबंध हों डे - एक हिस्सा हमेशा सूर्य की ओर, दूसरा हमेशा अंधकार की ओर।
  • 26:34 - 26:40
    पर जैसा पृथ्वी ने सिखाया है, जीवन कहीं भी पनप सकता है।
  • 26:42 - 26:50
    यदि जीवन को अरबों साल दे दिए जाएं, तो वह करता रूप ले सकता है?
  • 27:24 - 27:30
    एक दिन, किसी तरह, ज़िन्दगी की कहानी खत्म हो जाएगी।
  • 27:33 - 27:41
    अगर हम इस कहानी के पहले अध्याय हैं, तो हमारे पास यह मौका है कि हम जीवन की आग को आगे फैला सकें।
  • 27:58 - 28:06
    और अगर जीव विज्ञान भविष्य में रहता है, तो हम एक खास पल में जी रहें हैं।
  • 28:10 - 28:15
    आगे के अध्यायों में ब्रह्मांड अलग दिखेगा।
  • 28:18 - 28:25
    अंतरिक्ष के विस्तार के कारण तारे दिखाई नहीं देंगे, रात में बस अंधेरा होगा।
  • 28:27 - 28:31
    हो सकता है तब के जीव सोचे ब्रह्मांड के पुराने दिनों में रहना कैसा लगता होगा?
  • 28:38 - 28:43
    हम खुशकिस्मती से जवाब जानते हैं।
  • 28:49 - 28:54
    हमें बस ऊपर देखना है।
  • 29:07 - 29:12
    मैलोडीशीप द्वारा बनाया गया।
  • 30:09 - 30:14
    लाइफ बीयैंड
  • 30:15 - 30:19
    लाइफ बीयौंड में अगली बार - बुद्धिमान जीवन से संपर्क करना ।। ब्रह्मांड के अंत में बचना ।।। एलियन जीवन का भौतिक विज्ञान ।।।। और बहुत कुछ
  • 30:19 - 30:24
    Subtitles by Ansh Saxena (Factz Overdose) be curious, stay curious ;)
Title:
LIFE BEYOND | Chapter 1: The Dawn (4K). An exploration of alien life & our place in the universe.
Description:

more » « less
Video Language:
English
Duration:
30:26

Hindi subtitles

Revisions Compare revisions