Return to Video

कॉमिक्स कक्षा में हो सकती हैं

  • 0:01 - 0:02
    जब में पांचवी कक्षा में था,
  • 0:02 - 0:07
    मैंने एक प्रकाशन खरीदा
    "डीसी कॉमिक्स अंक # 57"
  • 0:07 - 0:09
    एक स्पिनर रैक से बाहर
    मेरे स्थानीय बुकस्टोर में,
  • 0:09 - 0:13
    और उस हास्य पुस्तक ने मेरी जिंदगी बदल दी .
  • 0:13 - 0:16
    शब्दों और चित्रों के संयोजन ने
    मेरे सिर के अंदर कुछ किया
  • 0:17 - 0:18
    जो पहले कभी नहीं किया गया था,
  • 0:18 - 0:22
    और मुझे तुरंत ही कॉमिक्स माध्यम से
    प्यार हो गया।
  • 0:22 - 0:25
    मैं एक भयानक कॉमिक बुक रीडर बन गया,
  • 0:25 - 0:27
    पर उन्हें मैं कभी स्कूल नहीं ले गया।
  • 0:27 - 0:33
    सहजता से, मैं जानता था की कॉमिक किताबें
    कक्षा के लिए नहीं थी।
  • 0:33 - 0:35
    मेरे माता-पिता निश्चित ही प्रशंसक नहीं थे,
  • 0:35 - 0:38
    और मैं जनता था कि मेरे शिक्षक
    भी नहीं होंगे।
  • 0:38 - 0:39
    आखिर, उन्होंने पढ़ाने के लिए
  • 0:39 - 0:40
    कभी इनका उपयोग नहीं किया,
  • 0:40 - 0:43
    कॉमिक किताबें और ग्राफिक उपन्यास
    पढने की अनुमति
  • 0:43 - 0:44
    मोंन रीडिंग में भी नहीं थी ,
  • 0:44 - 0:48
    और ये कभी हमारी वार्षिक पुस्तक मेले
    में भी नहीं बेचीं गई थी ।
  • 0:48 - 0:50
    फिर भी, मैंने कॉमिक्स पढ़ना जारी रखा,
  • 0:50 - 0:52
    और उन्हें बनाना भी शुरू कर दिया .
  • 0:52 - 0:55
    आखिरकार मैं बन गया
    एक प्रकाशित कार्टूनिस्ट,
  • 0:55 - 0:58
    लेखन और ड्राइंग
    एक जीवित के लिए कॉमिक किताबें।
  • 0:59 - 1:01
    मैं भी एक हाईस्कूल शिक्षक बन गया।
  • 1:01 - 1:02
    यह वह जगह है जहां मैंने सिखाया:
  • 1:02 - 1:05
    बिशप ओ'डोद हाई स्कूल
    ओकलैंड, कैलिफोर्निया में।
  • 1:05 - 1:08
    मैंने थोड़ा सा गणित सिखाता
    और थोड़ी से कला,
  • 1:08 - 1:09
    पर ज्यादातर
    कंप्यूटर विज्ञान,
  • 1:09 - 1:11
    और मैं वहां 17 साल तक था।
  • 1:12 - 1:13
    जब मैं एक नया शिक्षक था,
  • 1:13 - 1:17
    मैंने कॉमिक किताबें लाने की कोशिश की
    मेरे कक्षा में
  • 1:17 - 1:20
    मुझे याद है अपने छात्रों को बताना
    प्रत्येक वर्ग के पहले दिन
  • 1:20 - 1:22
    कि मैं एक कार्टूनिस्ट भी था।
  • 1:22 - 1:25
    ऐसा नहीं था कि मैं योजना बना रहा था
    उन्हें कॉमिक्स से पढ़ाने की ,
  • 1:25 - 1:29
    ज़्यादातर इसलिए कि मैं उम्मीद कर रहा था की
    कॉमिक्स से वे मुझे कूल समझेंगे ।
  • 1:29 - 1:30
    (हँसी)
  • 1:30 - 1:32
    मैं गलत था।
  • 1:32 - 1:34
    यह नब्बे का दशक था,
  • 1:34 - 1:38
    तब कॉमिक किताबों का वो सांस्कृतिक निशान
    नहीं था जो आज है
  • 1:38 - 1:42
    मेरे छात्रों ने नहीं सोचा कि मैं कूल था।
    उन्होंने सोचा कि मैं बेवकूफ प्रकार का था।
  • 1:42 - 1:45
    और इससे भी बदतर,
    जब मेरी कक्षा में मुश्किल विषय हो जाता,
  • 1:45 - 1:48
    वे कॉमिक किताबों का उपयोग करते
    मुझे विचलित करने के तरीके के रूप में।
  • 1:48 - 1:51
    वे अपने हाथ उठाते
    और मुझसे सवाल पूछते,
  • 1:51 - 1:53
    "श्री यांग, क्या लगता है
    की लड़ाई में कौन जीतेगा
  • 1:53 - 1:55
    सुपरमैन या हल्क? "
  • 1:55 - 1:56
    (हँसी)
  • 1:56 - 2:01
    मुझे बहुत जल्दी एहसास हो गया कि मुझे
    मेरी शिक्षा और कार्टून को अलग रखना होगा ।
  • 2:01 - 2:04
    लगता है मेरा सहज ज्ञान
    पांचवीं कक्षा में सही था ।
  • 2:04 - 2:07
    कॉमिक किताबें कक्षा में नहीं हो सकती थी।
  • 2:08 - 2:09
    लेकिन फिर, मैं गलत था।
  • 2:10 - 2:12
    मेरे शिक्षण कैरियर के कुछ सालों में
  • 2:12 - 2:17
    मैंने सीखा कॉमिक्स की शिक्षा की क्षमता।
  • 2:17 - 2:20
    एक सेमेस्टर, मुझसे पुछा विकल्प के तौर पर
    बीजगणित 2 कक्षा पढ़ाने के लिए ।
  • 2:20 - 2:25
    मुझसे पूछा दीर्घकालिक उप बनने के लिए ,
    और मैंने हाँ कहा, लेकिन एक समस्या थी।
  • 2:25 - 2:28
    उस समय, मैं स्कूल का
    शैक्षिक त्तेक्निसियन भी था
  • 2:28 - 2:30
    जिसका मतलब हर दूसरे हफ्ते में
  • 2:30 - 2:34
    मुझे एक या दो अवधियों को मिस करना पड़ता
    बीजगणित 2 कक्षा की
  • 2:34 - 2:37
    क्योंकि मैं किसी किसी और
    शिक्षक की मदद कर रहा होता
  • 2:37 - 2:39
    कंप्यूटर से संबंधित कार्य के साथ।
  • 2:39 - 2:42
    इन बीजगणित 2 छात्रों के लिए,
    वह भयानक था।
  • 2:42 - 2:44
    मेरा मतलब है, लंबी अवधि के लिए
    उप शिक्षक काफी खराब है,
  • 2:45 - 2:48
    लेकिन उप का एक और उप होना
    यह सबसे बुरा है।
  • 2:48 - 2:52
    मेरे छात्रों को कुछ स्थिरता प्रदान
    करने के प्रयास में,
  • 2:52 - 2:55
    मैंने वीडियो टैपिंग शुरू की
    खुद को व्याख्यान देते हुए।
  • 2:55 - 2:59
    मैं फिर इन वीडियो को मेरे उप को देता
    मेरे छात्रों को दिखाने के लिए।
  • 2:59 - 3:03
    मैं इन वीडियो को बहुत आकर्षक
    बनाने की कोशिश करता ।
  • 3:03 - 3:05
    मैं इनमे छोटे विशेष प्रभाव भी शामिल करता।
  • 3:05 - 3:08
    उदाहरण के लिए, मैं बोर्ड पर एक
    समस्या समाप्त होने के बाद,
  • 3:08 - 3:10
    मैं तालियाँ बजाता ,
  • 3:10 - 3:12
    और बोर्ड जादुई रूप से मिट जाता।
  • 3:12 - 3:14
    (हँसी)
  • 3:14 - 3:15
    मुझे यह बहुत बढ़िया लगता था।
  • 3:16 - 3:19
    मैं बहुत निश्चित था कि
    मेरे छात्र इसे पसंद करेंगे,
  • 3:19 - 3:20
    पर मैं गलत था।
  • 3:20 - 3:22
    (हँसी)
  • 3:22 - 3:25
    ये वीडियो व्याख्यान मुसीबत थे।
  • 3:25 - 3:27
    मेरे पास छात्र ऐसी चीजें कहकर गए ,
  • 3:27 - 3:29
    "श्री यांग, हमे लगा आप
    व्यक्तिगत रूप से उबाऊ हैं,
  • 3:29 - 3:33
    लेकिन वीडियो पर, आप बस असहनीय हैं। "
  • 3:33 - 3:35
    (हँसी)
  • 3:35 - 3:40
    तो दूसरे प्रयास के रूप में, मैंने इन
    व्याख्यानों को कॉमिक्स में चित्रित किया।
  • 3:40 - 3:42
    मैं ये बहुत जल्दी कर लेता
    बहुत कम योजना के साथ।
  • 3:42 - 3:45
    मैं बस एक शार्पी पेन लेकर ,
    एक के बाद दूसरे पैनल खींच देता ,
  • 3:45 - 3:48
    साथ ही यह पता लगाता जाता की
    क्या कहना चाहता हूँ.
  • 3:48 - 3:50
    ये कॉमिक्स लेक्चर बनते
  • 3:50 - 3:52
    करीब चार और छह पेज बीच लम्बे,
  • 3:52 - 3:57
    मैं इन्हें ज़ेरोक्स कर अपने उप को दे देता
    मेरे छात्रों को सौंपने के लिए।
  • 3:57 - 3:59
    और मुझे आश्चर्य हुआ,
  • 3:59 - 4:02
    ये कॉमिक्स लेक्चर एक हिट थे।
  • 4:02 - 4:05
    मेरे छात्र मुझसे पूछते
    इन्हें बनाने के लिए
  • 4:05 - 4:08
    तब भी जब मैं व्यक्तिगत रूप से
    वहां रह सकता था।
  • 4:08 - 4:13
    ऐसा लगा कि उन्हें मेरा कार्टून पसंद आया
    मेरे वास्तविक रूप से अधिक।
  • 4:13 - 4:15
    (हँसी)
  • 4:15 - 4:18
    इससे मुझे हैरानी हुई, क्योंकि मेरे छात्र
    ऐसी पीढ़ी का हिस्सा हैं
  • 4:18 - 4:20
    जो स्क्रीन पर बड़ी हुई है ,
  • 4:20 - 4:23
    तो मैंने सोचा की वे निश्चित ही चाहेंगे
    एक स्क्रीन से सीखना
  • 4:24 - 4:26
    बजाय एक पृष्ठ से सीखने के ।
  • 4:26 - 4:28
    पर जब मैंने अपने छात्रों से बात की
  • 4:28 - 4:31
    उन्हें कॉमिक्स लेक्चर इतने क्यों पसंद आये
  • 4:31 - 4:35
    मुझे समझ आया कॉमिक्स की शैक्षणिक क्षमता।
  • 4:35 - 4:38
    पहला, उनके गणित पाठ्यपुस्तकों के विपरीत,
  • 4:38 - 4:41
    इन कॉमिक्स लेक्चर ने द्रश्य से सिखाया।
  • 4:41 - 4:43
    हमारे छात्र एक दृश्य संस्कृति में बड़े
    होते हैं,
  • 4:43 - 4:46
    इसलिए इन्हें आदत है इस तरह से
    जानकारी लेने के लिए।
  • 4:46 - 4:49
    लेकिन अन्य दृश्य कथाओं के विपरीत,
  • 4:49 - 4:54
    फिल्म या टेलीविजन की तरह
    या एनीमेशन या वीडियो,
  • 4:54 - 4:57
    कॉमिक्स मैं कहोंगा की स्थायी हैं।
  • 4:57 - 5:02
    एक कॉमिक में, अतीत, वर्तमान और भविष्य
    सभी एक ही पृष्ठ पर एक तरफ होते हैं।
  • 5:02 - 5:06
    इसका मतलब है कि सूचना का प्रवाह दर
  • 5:06 - 5:09
    मजबूती से पाठक के हाथों में है।
  • 5:10 - 5:14
    जब मेरे छात्रों को मेरे कॉमिक्स व्याख्यान
    में कुछ समझ में नहीं आया,
  • 5:14 - 5:18
    वे बस उस अंश को फिर से पढ़ सकते थे
    जल्दी या धीरे-धीरे उनकी ज़रूरत के मुताबिक ।
  • 5:18 - 5:22
    ऐसा था जैसे मैं उन्हें जानकारी
    पर एक रिमोट कंट्रोल दे रहा था।
  • 5:22 - 5:25
    वही सच मेरे वीडियो व्याख्यान
    के लिए नहीं था ,
  • 5:25 - 5:28
    और यह मेरे व्यक्तिगत व्याख्यान
    के लिए भी सच नहीं था।
  • 5:28 - 5:32
    जब मैं बोलता हूं, तो मैं जानकारी प्रदान
    करता हूं अपनी इच्छा से जल्दी या धीरे-धीरे।
  • 5:32 - 5:36
    तो कुछ छात्रों के लिए
    और कुछ प्रकार की जानकारी,
  • 5:36 - 5:41
    कॉमिक्स माध्यम के इन दो पहलुओं,
    इसकी दृश्य प्रकृति और इसकी स्थायित्व,
  • 5:41 - 5:44
    इसे एक बहुत ही शक्तिशाली
    शैक्षणिक उपकरण बनाता है .
  • 5:44 - 5:46
    जब मैं इस बीजगणित 2 कक्षा को पढ़ रहा था,
  • 5:46 - 5:51
    मैं अपनी शिक्षा में मास्टर डिग्री पर भी
    काम कर रहा था कैल स्टेट ईस्ट बे में ।
  • 5:51 - 5:55
    और मैं इन कॉमिक्स व्याख्यान के
    नुभव से इतना चकित था .
  • 5:55 - 6:00
    कि मैंने फैसला किया कॉमिक्स मेरा अंतिम
    मास्टर प्रोजेक्ट केंद्रित करने का।
  • 6:00 - 6:03
    मैं समझना चाहता था अमेरिकी शिक्षक
  • 6:03 - 6:08
    क्यों इतिहास से इतनी अनिच्छुक है अपनी
    कक्षाओं में कॉमिक किताबों के उपयोग से।
  • 6:08 - 6:10
    मैंने यह पाया है।
    कॉमिक किताबें पहली बार
  • 6:10 - 6:13
    1940 के दशक में एक व्यापक माध्यम बनीं ,
  • 6:13 - 6:15
    हर महीने लाखों प्रतियाँ बिकने के साथ,
  • 6:15 - 6:17
    और तभी शिक्षकों ने नोटिस किया ।
  • 6:17 - 6:21
    बहुत सारे अभिनव शिक्षकों ने कॉमिक्स को
    अपने कक्षाओं में लाना शुरू किया
  • 6:21 - 6:23
    प्रयोग करने के लिए।
  • 6:23 - 6:27
    1 9 44 में,
    "जर्नल शैक्षिक समाजशास्त्र के "
  • 6:27 - 6:30
    यहां तक कि एक पूरे मुद्दे को समर्पित भी
    इस विषय के लिए।
  • 6:30 - 6:33
    सब चीजें प्रगति की ओर लग रही थी।
  • 6:33 - 6:35
    शिक्षक चीज़ों को समझने लगे थे ।
  • 6:35 - 6:37
    लेकिन फिर यह आदमी आता है।
  • 6:37 - 6:41
    ये बाल मनोवैज्ञानिक
    डॉ फ्रेड्रिक वेर्थम है ,
  • 6:41 - 6:45
    और 1 9 54 में, उन्होंने एक पुस्तक लिखी
    "मासूम को प्रलोभन", कहा जाता है
  • 6:45 - 6:50
    उसमें उन्होने तर्क दिया की कॉमिक किताबें
    किशोर अपराध का कारण बनती है।
  • 6:50 - 6:51
    (हँसी)
  • 6:51 - 6:53
    वह गलत था।
  • 6:53 - 6:55
    वैसे, डॉ वर्थम वास्तव एक
    सुंदर सभ्य आदमी थे ।
  • 6:55 - 6:58
    उन्होंने अपना अधिकांश करियर बिताया
    किशोर अपराधियों के साथ काम कर,
  • 6:58 - 7:03
    और अपने काम में उन्होंने देखा कि
    ज्यादातर ग्राहक हास्य किताबें पढ़ते हैं।
  • 7:03 - 7:07
    डॉ. वर्थम यह महसूस करने में नाकाम रहे
    की 1940 और 50 के दशक में ,
  • 7:07 - 7:11
    अमेरिका में लगभग हर बच्चा
    कॉमिक किताबें पढ़ता था ।
  • 7:11 - 7:15
    डॉ वर्थम ने अपने मुद्दे को साबित
    करने का बेहद संदिग्ध काम किया ,
  • 7:15 - 7:18
    लेकिन उनकी पुस्तक प्रेरित करती है
    संयुक्त राज्य अमेरिका के सीनेट को
  • 7:18 - 7:20
    सुनवाई की एक श्रृंखला आयोजित करने के लिए
  • 7:20 - 7:24
    देखने के लिए की वास्तव में कॉमिक किताबें
    किशोर अपराध की वजह है ।
  • 7:25 - 7:27
    ये सुनवाई चली लगभग दो महीने तक।
  • 7:27 - 7:32
    वे समाप्त हुईं अनिशियत परिणाम से ,
    लेकिन जबरदस्त नुकसान करने के बाद
  • 7:32 - 7:36
    कॉमिक किताबों की प्रतिष्ठा को
    अमेरिकी जनता की नजर में।
  • 7:36 - 7:41
    इसके बाद, सम्मानजनक अमेरिकी
    शिक्षकों समर्थन देने से पीछे हट गए,
  • 7:41 - 7:42
    और वे का दशकों तक दूर ही रहे।
  • 7:42 - 7:44
    यह 1 9 70 के दशक के बाद ही
  • 7:44 - 7:47
    कुछ बहादुर लोगों ने वापिस
    आना शुरू कर दिया।
  • 7:47 - 7:49
    और यह वास्तव में हाल ही में हुआ ,
  • 7:49 - 7:51
    शायद पिछले दशक में या आस पास ,
  • 7:51 - 7:54
    इन कॉमिक्स को अधिक
    व्यापक स्वीकृति मिली है
  • 7:54 - 7:56
    अमेरिकी शिक्षकों के बीच।
  • 7:56 - 8:00
    कॉमिक किताबें और ग्राफिक उपन्यास
    आखिर में अपना रास्ता बना रहे हैं
  • 8:00 - 8:02
    अमेरिकी कक्षाओं में वापस
  • 8:02 - 8:06
    और यह भी हो रहा है
    बिशप ओ'डोद में, जहां मैं पढाता था।
  • 8:06 - 8:08
    श्री स्मिथ, मेरे एक पूर्व सहयोगी ,
  • 8:08 - 8:11
    स्कॉट मैकक्लाउड का उपयोग करते हैं
    "अंडर स्टैंडिंग कॉमिक्स "
  • 8:11 - 8:15
    अपने साहित्य और फिल्म कक्षा में,
    क्योंकि वह किताब उनके छात्रों को देती है
  • 8:15 - 8:20
    एक भाषा जिसके साथ शब्दों और छवियों
    के बीच संबंध की चर्चा होती है ।
  • 8:20 - 8:24
    श्री बर्न्स अपने छात्रों के लिए हर साल
    कॉमिक्स निबंध निर्दिष्ट करते हैं ।
  • 8:24 - 8:28
    अपने छात्रों को छवियों का उपयोग कर
    एक गद्य उपन्यास संसाधित करने के लिए,
  • 8:28 - 8:30
    श्री बर्न्स उन्हें गहराई से सोचने के लिए
    कहते हैं
  • 8:30 - 8:32
    सिर्फ कहानी के बारे में नहीं
  • 8:32 - 8:35
    बल्कि वह कहानी को कैसे बताया गया है
    इसके बारे में भी।
  • 8:35 - 8:38
    और सुश्री मुरॉक उपयोग करती हैं
    मेरी अपनी "अमेरिका बोर्न चाइनीस"
  • 8:38 - 8:40
    उसके अंग्रेजी 1 छात्रों के साथ।
  • 8:40 - 8:42
    उसके लिए, ग्राफिक उपन्यास
  • 8:42 - 8:46
    सामान्य कोर मापदंड पूरा करने का एक
    शानदार तरीका है ।
  • 8:46 - 8:48
    मापदंड बताता है कि छात्र
    विश्लेषण करने में सक्षम होना चाहिए
  • 8:48 - 8:54
    कैसे एक पाठ के अर्थ, स्वर और सुंदरता
    के लिए दृश्य तत्व योगदान देते हैं ।
  • 8:55 - 8:58
    लाइब्रेरी में, सुश्री कौओत
    ने एक बहुत प्रभावशाली बनाया है
  • 8:58 - 9:00
    ग्राफिक उपन्यास संग्रह
    बिशप ओद्वोद के लिए ।
  • 9:00 - 9:04
    अब, सुश्री कौओत और उनके सब
    पुस्तकालय सहयोगियों
  • 9:04 - 9:07
    वास्तव में सबसे आगे रहे हैं
    कॉमिक्स की सिफारिश करने में ,
  • 9:07 - 9:10
    वास्तव में शुरुआती '80 के दशक से,
    जब एक स्कूल पुस्तकालय पत्रिका लेख
  • 9:10 - 9:14
    कहा कि पुस्तकालय में केवल
    ग्राफिक उपन्यासों की उपस्थिति से
  • 9:14 - 9:17
    उपयोग में लगभग 80 प्रतिशत की वृद्धि हुई
  • 9:17 - 9:21
    और प्रसार में वृद्धि हुई
    गैर कॉमिक्स सामग्री के
  • 9:21 - 9:23
    लगभग 30 प्रतिशत तक।
  • 9:23 - 9:27
    अमेरिकी शिक्षकों के इस नए शोक
    से प्रेरित होकर ,
  • 9:27 - 9:32
    अमेरिकी कार्टूनिस्ट अब स्पष्ट
    शैक्षणिक सामग्री बना रहे हैं
  • 9:32 - 9:34
    पहले से कहीं ज्यादा के -12 बाजार के लिए।
  • 9:34 - 9:38
    इनमें से बहुत कुछ निर्देशित है
    भाषा कला में,
  • 9:38 - 9:40
    पर अधिक से अधिक कॉमिक्स
    और ग्राफिक उपन्यास
  • 9:40 - 9:43
    गणित और विज्ञान विषयों के लिए
    शुरू कर रहे हैं ।
  • 9:43 - 9:48
    एसटीईएम कॉमिक्स ग्राफिक्स उपन्यास
    वास्तव में इस उलझे क्षेत्र की तरह हैं,
  • 9:48 - 9:49
    खोज के लिए तैयार है।
  • 9:50 - 9:52
    अंत में अमेरिका इस तथ्य से जाग रहा है
  • 9:52 - 9:57
    वह कॉमिक किताबें
    किशोर अपराध का कारण नहीं बनें।
  • 9:57 - 9:58
    (हँसी)
  • 9:58 - 10:02
    वे वास्तव में हर शिक्षक के
    टूलकिट में संबंधित हैं।
  • 10:02 - 10:05
    ऐसा कोई कारण नहीं है जो
    हास्य किताबें और ग्राफिक उपन्यास
  • 10:05 - 10:07
    को के -12 शिक्षा से बाहर रखे ।
  • 10:07 - 10:09
    वे द्रशयों से पढ़ाते हैं,
  • 10:09 - 10:12
    वे हमारे छात्रों को देते हैं
    वह रिमोट कंट्रोल।
  • 10:13 - 10:15
    शैक्षिक क्षमता यहाँ है
  • 10:15 - 10:17
    बस टैप करने की प्रतीक्षा में है
  • 10:17 - 10:19
    आपके जैसे रचनात्मक लोगों द्वारा।
  • 10:19 - 10:21
    धन्यवाद।
  • 10:21 - 10:24
    (तालियां)
Titel:
कॉमिक्स कक्षा में हो सकती हैं
Sprecher:
जीन यांग
Beschreibung:

कार्टूनिस्ट और शिक्षक जीन लुएन यांग कहते हैं, कॉमिक पुस्तकें और ग्राफिक उपन्यास प्रत्येक शिक्षक की टूलकिट में हों । अपनी खुद की विनोदी, रंगीन चित्रों की पृष्ठभूमि के पर सेट कर, यांग अमेरिकी शिक्षा में कॉमिक्स के इतिहास की खोज करते है - और बच्चों को सीखने में उनकी मदद करने के लिए उनकी संभावनाओं के बारे में कुछ अप्रत्याशित अंतर्दृष्टि बताते है।

more » « less
Video Language:
English
Team:
TED
Projekt:
TEDTalks
Duration:
10:36

Untertitel in Hindi

Revisionen